Wednesday, September 5, 2012

सुनो न ..




तुम ,
कुछ कहो न कहो..
कुछ लिखो न लिखो
मुझे वो सारे हुनर आते हैं
जिनसे
तुम्हारी आँखों से होकर
मैं मन तक पहुँच जाती हूँ
और सब अनकहा ...सुन आती हूँ.
सब अनलिखा ...पढ़ आती हूँ .

अब तो कभी नहीं कहोगे न ..
कि "कुछ नहीं हुआ "
"पता नहीं "कह कर नहीं टालोगे
या ...बस,"ऐसे ही "कह कर बहलाओगे नहीं .

13 comments:

  1. तुम्हारी आँखों से होकर
    मैं मन तक पहुँच जाती हूँ
    और सब अनकहा ...सुन आती हूँ.
    सब अनलिखा ...पढ़ आती हूँ .

    बहुत बढ़िया बेहतरीन प्रस्तुति,,,,
    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,

    ReplyDelete
  2. खूबसूरती से लिखे एहसास

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद!

      Delete
  3. Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया !!

      Delete
  4. आप रुलाते बहुत हो निधि !

    ReplyDelete
    Replies
    1. लीजिए मुस्कुराईये:-))))))

      Delete
  5. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers