Monday, September 24, 2012

ओवर हेड




क्यूँ इतना उलझ जाती है ज़िंदगी
कोई सिरा नहीं मिलता कभी-कभी
ढूँढते रहो..
वो एक राह ...
जिस से तुम तक पहुंचा जा सके .
सारी दुश्वारियां....सारे स्पीड ब्रेकर
भगवान ने ....बस इसी राह पे
मेरे लिए बना छोड़े हैं .

यार...चलो न
अपना एक ओवर हेड बना ले
प्यार का पुल ...
जो सीधे ...
फुल स्पीड ....
मुझे तुम तक पहुंचा सके .

18 comments:

  1. बस तुमसे ही मनवा चैन पाए ...
    बहुत सुन्दर बात ...सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ जी बिलकुल...ऐसे ही चैन है

      Delete
  2. आपकी हर रचना की तरह यह रचना भी बेमिसाल है !

    ReplyDelete
  3. यार...चलो न
    अपना एक ओवर हेड बना ले
    प्यार का पुल ...
    जो सीधे ...
    फुल स्पीड ....
    मुझे तुम तक पहुंचा सके
    ...............लास्ट की चार लाईन्स जबरदस्त है....!

    ReplyDelete
    Replies
    1. पसंद करने के लिए...थैंक्स!

      Delete
  4. यार...चलो न
    अपना एक ओवर हेड बना ले
    प्यार का पुल ...
    जो सीधे ...
    फुल स्पीड ....
    मुझे तुम तक पहुंचा सके,,,,, भावनात्मक पंक्तियाँ,,

    RECENT POST समय ठहर उस क्षण,है जाता

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर
    क्या कहने
    अच्छी रचना

    ReplyDelete

  6. पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    ReplyDelete
  7. कहो ..इतने दूर न जाओ....
    इत्ता लंबा फ्लाई ओवर बन भी पायेगा...????

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. बनेगा...बनाएंगे
      नहीं तो फासले कैसे मिटायेंगे

      Delete
  8. वाह बहुत बढिया हैं ...प्यार का ये पुल ..बिना रुके बस बढते जाओ

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर
    ये प्यार का पुल जरुर बनेगा..
    बनायेंगे..
    :-)

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers