Friday, August 12, 2011

रोज़ मिलना...औपचारिकता ??


रोज़ ,तुम्हारा ...
मुझसे मिलना, बातें करना
हंसना-बोलना,साथ-साथ चलना
तुम्हें,अटपटा सा लगता है ,ये सब करना.
लगता है कि प्यार में ये कैसा दिखावा?
इन औपचारिकताओं की क्या आवश्यकता है ??
इन प्रदर्शनों में खुद को क्यूँ कर सीमित करना है ???

हमारी मित्रता तो यथार्थ के धरातल पर टिकी है.
वास्तविकता के आधार पर उसकी नींव टिकी है
शायद,इसीलिए ...
तुमने यह कहा मुझसे
कि
प्रेम तो मूक अभिव्यक्ति है...
बिन शब्दों के भी सब समझा जा सकता है
बिन मिले भी एक दूसरे को जाना जा सकता है
यही तो प्रेम की पहली सीढ़ी है...
"रोज मिलने से कहीं अच्छा है ,
कि जब ज़रूरत हो तब मैं तुम्हारे पास हूं.
ऐसे बात करने से क्या लाभ
कि जब तुम तन्हाई से घबराओ तब मैं न पास हूँ.
रोज साथ चलने से अच्छा है,ज्यादा
कि जब तुम गिरो तब संभालने को मेरा हाथ हो.

तुम्हारे कहे गए ये सारे वाक्य ,
रात दिन मुझे याद आते हैं.
पर,तुम्हारी कही इन बातों का क्या कोई फायदा है?
क्यूंकि क्या तुम यह बात नहीं समझते हो,
कि रोज बोलना शायद ज़रूरी न हो
पर बिन बोल क्या तुम समझ जाओगे
कब मुझे है क्या परेशानी,कब मुझे है ज़रूरत तुम्हारी
मात्र प्रेम के दृढ आधार के बाल पर जान पाओगे...सब?

जब मिल सकते हों
तब भी रोज मिलना,साथ चलना आवश्यक नहीं
पर एक बात बता दो फिर,कि
क्या तुम्हारे पास है वो शक्ति,
कि बिन मेरे साथ चले ही
ठोकर कहाँ लगी,कहाँ मैं गिरी
तुम जान जाओगे....??

चलो,मैंने...इस सत्य को स्वीकार लिया
कि अनूभूतियों का,भावनाओं का अपना मोल है
पर ,यह जो व्यवहारिक दुनिया है ...इसका क्या ?
मेरे...तुम्हारे जैसे इंसानों में
अंतर्यामी होने का गुण है क्या?
जो बिन कहे,मिले हम सब जान -समझ लें.
बिन मिले,बोले,साथ चले
ज़रूरत के समय चाह कर भी ...
साथ नहीं दे पायेंगे...
पता कैसे चलेगा कि ..
कौन कब खुश है,रुष्ट है...या कोई कष्ट है.

तुम भी तो कहते हो भावनाओं से ही इंसान ...इंसान बनता है
फिर उसे दिखाने में शर्म कैसी और क्यूँ ?
मुझे इंसान रहने दो...मशीन मत बनने दो
क्षुद्र इंसान हूँ मैं,यह मत भूलो
प्रेम यूँ तो इन सबसे उपर है
पर इसके पोषण में यही छोटी बातें,मुलाकातें
अपना योगदान देती हैं .
ये एक-एक इकाई ही जब जुड़ती है
प्रेम नवीन होता जाता है
ठहराव से बचता है
बिना अवरोध बहता जाता है

34 comments:

  1. हमेशा की तरह अनोखे भाव और अनूठे बिम्ब लिये,जीवन की बारीकियाँ समझाती यह नज़्म!!
    बेहद सुन्दर लिखा है आपने...... क्या बात है ......निधि जी ........ बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. बहुत ही प्रभावशाली कृति ...सच्चाई को वयां करती हुई अत्यंत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत प्रवाहमयी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. वाह प्रेम को नये आयाम दे दिये…………बेहद शानदार कविता बहुत पसन्द आये कविता के भाव्।

    ReplyDelete
  5. क्या कहने
    बहुत सुंदर भाव
    अच्छी रचना

    ReplyDelete
  6. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति कल के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. निधि जी
    इन्सान और इंसानियत दिखाने में कैसी शर्म -मुझे इंसान ही रहने दो मशीन मत बनाओ --सुन्दर रचना खुबसूरत भाव -
    भ्रमर५

    ReplyDelete
  8. बहुत गहन भाव लिए हुए हैं आपकी यह कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  9. प्रेम के भावो को बहुत ही खूबसूरती से प्रस्तुत किया है आपने...

    ReplyDelete
  10. nidhi ji pahli baar padh rahi hoon aapko aapke shabd dil ki gahraai se nikle prateet hote hain.pyaar ke bahut achche bhaav hain rachna me.achcha laga aapke blog par aakar jud rahi hoon aapse.saath hi apne blog par bhi aane ka nimantran de rahi hoon.

    ReplyDelete
  11. प्रेम भाव की एक अनमोल कॄति....सुन्दर....

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. संजय जी...बहुत -बहुत आभार !!रचना को पढ़ने के लिए ...आप हमेशा वक्त निकालते हैं,मैं शुक्रगुज़ार हूँ .

    ReplyDelete
  14. संगीता जी...शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  15. वंदना...प्रेम स्वयं इतना बहुआयामी है कि अपने आप ही कोई नया पहलू सामने आ कर खडा हो जाता है...जब लिखने बैठती हूँ .

    ReplyDelete
  16. महेंद्र जी...उत्साहवर्धन हेतु...थैंक्स !!

    ReplyDelete
  17. सुरेन्द्र जी...आप पहली बार ब्लॉग पर आये...प्रतिक्रया भी दी...आभार!!!

    ReplyDelete
  18. प्रियंका...थैंक्स!!

    ReplyDelete
  19. यशवंत.....धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  20. सुषमा...मुझे लगता है ...प्रेम जिस चीज़ से जुड जाए वो खुद ही खूबसूरत हो जाती है...हैं न?

    ReplyDelete
  21. राजेश कुमारी जी...आप मेरे ब्लॉग पर आयीं ....रचना पढ़ी...टिप्पणी करी.तहे दिल से शुक्रिया !!आपने उत्साह वर्धन किया...मैं आद्र हो गयी ...प्रयास करूंगी कि आगे भी आप का साथ यूँ ही मिलता रहेगा ...और मैं आपकी उमीदों अपर खरी उतरूंगी ...आपके ब्लॉग पर मैं जल्द ही आऊँगी .

    ReplyDelete
  22. महेश्वरी जी...आभार.

    ReplyDelete
  23. वन्दना....धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  24. भावपूर्ण सहज अनुभूतिजन्य कविता के लिए निधि जी आपको बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  25. प्रसन्न जी...शुक्रिया ...आपने सराहा एवं मेरा उत्साह बढ़ाया .

    ReplyDelete
  26. सहज साहित्य ....धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  27. प्रभावी रचना....बधाई.

    ReplyDelete
  28. उड़न तश्तरी जी......तहे दिल से आपका शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  29. बेहद सुंदर रचना निधि एक बार फिर... अपना एक मतला और शे'र याद आ गया..

    सिलसिला मिलने जुलने का बहरहाल जरूरी है
    पर रिश्तो में ताज़गी के लिए अंतराल ज़रूरी है

    तुम्हारी जरूरत किसी की दिक्कत न बन जाए
    बहुत बेतकल्लुफ रिश्तो में भी यह ख्याल ज़रूरी है

    ReplyDelete
  30. अमित ..आभार!!शेर बहुत खूबसूरत हैं...अधिकतर अपनी बात कहनी पड़ती है...कोई अंतर्यामी नहीं होता...आपने कहा अंतराल ज़रूरी होता है..पर अंतराल इतना भी ना हो कि फासले हो जाएँ

    ReplyDelete
  31. dr nidhi ji
    aap mere blog par aai sach!bahut hi achha laga iske liye aapko hardik badhai
    aapki rachna ki kya tarrif karun uske layak shayd mere paas shbd nahi hai.
    sach me prem ki pribhashha v uski parakashhtha ko jo chitran aapne kiya hai vah adhbhut hai .
    bahut bahut hi behtreen lagi aapki yeh post .
    hardik badhai swikaren
    poonam

    ReplyDelete
  32. पूनम जी...मुझे आपके ब्लॉग पर आकर..बहुत अच्छा लगा ...
    आपकी बधाई स्वीकारती हूँ...और आपको भी धन्यवाद देती हूँ कि आपने मेरे ब्लॉग पर आकर ...रचना को पढ़ा ...पसंद किया एवं टिप्पणी भी दी .

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers