Monday, August 8, 2011

अब हूँ.....तुम्हारे साथ


तुम्हारे हाथ में
मेरा हाथ सौंपा गया
और मैं,तुम्हारा हाथ थाम
तुम्हारे जीवन में आ गयी.
अनजाने में ही...
अपने पीछे के सारे दरवाज़े
लौट जाने के सारे रास्ते
खुद ही बंद कर आई .
अब,हूँ...तुम्हारे साथ
तुम्हारे किये झूठे वादों,
तुम्हारी ली झूठी कसमों
अपने टुकड़े हुए विश्वास
रुंधी हुई प्यार की आवाज़
की....
अर्थी को ढोते...हुए

34 comments:

  1. क्या बात है....

    फिर बही उम्मीद....वही इंतज़ार....

    ReplyDelete
  2. जब राहें बदल गयी हों तो पिछला देवाज़ा बंद ही करना पड़ता है .. अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. आदरणीय निधि जी
    नमस्कार !
    हैट्स ऑफ......प्यार के खुबसूरत पलों को शानदार शब्द दिये हैं....प्रशंसनीय |

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत शब्‍दों का संगम

    ReplyDelete
  5. भावो को सुन्दरता से पिरोया है।

    ReplyDelete
  6. गहरे और दिल को छू लेने वाले भाव!

    सादर

    ReplyDelete
  7. दिल की आवाज कविता के रूप में. बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  8. jindgi ki bahut badi sacchayi...jiske sath na jiya jaye na mara jaye...aabhar

    ReplyDelete
  9. kam shabdo me itna kuch aabhar

    ReplyDelete
  10. कुमार...थैंक्स!!...उम्मीद पे दुनिया कायम है ..

    ReplyDelete
  11. शुक्रिया ...संगीता जी .निगाहें उन छूटी राहों की ओर मुड-मुड कर देखती क्यों हैं...

    ReplyDelete
  12. संजय जी...नमस्ते !!आभार...रचना को पसंद करने और उसे जाहिर करने हेतु.

    ReplyDelete
  13. वंदना....धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  14. यशवंत...अच्छा लगा जान कर कि रचना दिल को छू गयी

    ReplyDelete
  15. ज़ाकिर जी...हाँ यथार्थ है...पर मुझे विकृत नहीं लगता...विकृत से बहुत कठोरता आ जाती है...जो यहाँ नहीं है

    ReplyDelete
  16. रचना जी...अभूत आभार...ब्लॉग पर आकर...पोस्ट पढ़ने...सराहने एवं टिप्पणी देने के लिए

    ReplyDelete
  17. प्रियंका...बिलकुल ठीक कहा...ऐसी सच्चाई जिसे न उगलते बनता है न निगलते

    ReplyDelete
  18. शर्मा जी...आपको रचना पसंद आई...आभार !!

    ReplyDelete
  19. एहसासों, रिश्तो,भावो, एक साथ इतने खुबसूरत शब्दों में पिरो दिया आपने... बहुत ही सुन्दर...

    ReplyDelete
  20. सुषमा....थैंक्स!

    ReplyDelete
  21. वीणा जी.....धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  22. उड़न तश्तरी जी....शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  23. थैंक्स ...रश्मिप्रभा जी !!आपका बहुत बढ़िया पढते ही मन प्रसन्न हो गया .

    ReplyDelete
  24. शब्दों का जादू..आपसे बेहतर कौन चला सकता है..!!!

    अभिव्यक्त करने की कला की कायल हूँ..दी..!!!

    ReplyDelete
  25. प्रियंका....तुम अपना लिखा कभी पढ़ना....पता चल जाएगा की मुझसे बेहतर लफ़्ज़ों का जादू तुम चलाती हो ...
    नवाजिश!!कि तुम्हें पोस्ट पसंद आयी

    ReplyDelete
  26. Bewajah- ThoughtlessAugust 10, 2011 at 11:08 PM

    निधि, तुम्‍हारा लिखा बहुत कुछ पढ चुकी हूं इधर......

    एक सवाल है..... यदि तुम जवाब दो तो........

    तुम्‍हारे लिए लिखना क्‍या है...........

    ReplyDelete
  27. दी...मेरे लिए लिखना....मुझे खुद नहीं पता ..कि आखिर क्या है?कभी तो जब किसी से कुछ नहीं कह पाती तो...कागज़ से कह डालती हूँ....कभी बहुत खुश होती हूँ...या बहुत दुखी तो कलम को दोस्त बना लेती हूँ...कभी कोई बात बहुत खराब लग जाती है तो कागज़ पे उतर आती है...
    अक्सर....मैं क्यूँ ,कब ,कैसे लिखने बैठ जाती हूँ....मुझे खुद नहीं पता....नीम बेहोशी सी रहती है...उस वक्त जो ख्याल दिल के ज्यादा करीब से गुजार जाता है...वो कविता बन जाता है
    मेरे लिए लिखना अपनी खुशी...अपनी तकलीफें...अपनी हँसी ...अपने आंसू ...अपनी घुटन ...अपनी भावनाएं बांटने का माध्यम है

    ReplyDelete
  28. दी..

    मैं तो कतरा मात्र भी नहीं हूँ..!! चलना सीख रही हूँ..!!! आप मेरे गुरु हैं..आदरणीया हैं..आपका स्थान सर्वोपरि है..!!!

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर ... लाजबाब रचना.. निधि....

    कहने को यूं हज़ार साथ है
    तुम हाथ दो तो और बात है

    ReplyDelete
  30. अमित......सच ही तो है जिसे हम चाहें...उसका साथ मिल जाए तो ज़िंदगी कितनी हसीं हो जाती है .खूबसूरत शेर से नवाजा...शुक्रिया!!

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers