Saturday, May 19, 2012

भूत


बीती बातें...गुजरी बातें
भूत ..कहते हैं ,इनको.
सही ही कहते हैं न ..
भूत सरीखी ही होती हैं,ये सारी .
एक बार पीछे पड़ जाएँ
तो पीछा नहीं छोडती कभीं .
बीती गुजरी बातों के भूत को
रिफाइंड भाषा में याद कह देते हैं .
यह भूत न दिन देखें न रात
ना सांझ न दोपहर
किसी मौसम से कोई फर्क नहीं पड़ता .
जब मन चाहा पकड़ लिया.... पीछे से
दिल में दर्द हो,आँख नम हो
हर ओर उदासी का आलम हो
तब समझ आता है कि चढ गया
भूत फिर से वर्तमान पे.
ध्यान कहीं न लगे
मन रोने का करे
अजीब सी उलझन हो
बस में न तन मन हो
सब यही देते हैं सलाह कि
झडवा लो किसी से
अब कौन समझाए सबको
कि उस "किसी "को
जो मेरा यह भूत उतारे
यह लोग कहाँ ढूंढ पायेंगे ?

30 comments:

  1. दिल में दर्द हो,आँख नम हो
    हर ओर उदासी का आलम हो
    तब समझ आता है कि चढ गया
    भूत फिर से वर्तमान पे.

    बहुत सुंदर रचना,..अच्छी प्रस्तुति

    MY RECENT POST,,,,काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,
    MY RECENT POST,,,,फुहार....: बदनसीबी,.....

    ReplyDelete
  2. बीती बातें...गुजरी बातें
    भूत ..कहते हैं ,इनको.
    सही ही कहते हैं न ..
    भूत सरीखी ही होती हैं,ये सारी .
    एक बार पीछे पड़ जाएँ
    तो पीछा नहीं छोडती कभीं
    हाँ कभी भी पीछा नहीं छोड़ते ये भूत... सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. दिल में दर्द हो,आँख नम हो
    हर ओर उदासी का आलम हो
    तब समझ आता है कि चढ गया
    भूत फिर से वर्तमान पे.

    सच ये भूत पीछा नहीं छोडता ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हाँ...नहीं छोडता .

      Delete
  4. अतीत में विचरती सुंदर प्रस्तुति ...!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनुपमा....थैंक्स!!

      Delete
  5. भूत तादात्म्य का भूत है...
    कुछ भूत अच्छे होते हैं
    कुछ बुरे
    बुरा भूत बिन बुलाया मेहमान है
    तो अच्छा भूत एक विशिष्ट मेहमान
    .
    सच हमारे मन को
    लत है भूत की
    उसका मत भूत की
    परछाइयों से ही तय है


    यह भूत अद्भुत रहा...

    ReplyDelete
    Replies
    1. मनोज जी...आपके द्वारा की गयी यह टिप्पणी भी अद्भुत रही
      बुरा भूत बिन बुलाया मेहमान है
      तो अच्छा भूत एक विशिष्ट मेहमान....वाह!!

      Delete
  6. अब कौन समझाए सबको
    कि उस "किसी "को
    जो मेरा यह भूत उतारे
    यह लोग कहाँ ढूंढ पायेंगे ?
    ......बहुत ही भावपूर्ण अन्तःस्थल को स्पर्श करती रचना... !!!

    ReplyDelete
  7. भूत तो डराता ही जाता है ...

    ReplyDelete
  8. भूत तो डराता ही जाता है ...और असली भूत को जो बुरी तरह हावी हो , कौन उतारे उस भूत के सिवा

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा ,आपने...बिलकुल.

      Delete
  9. भूत का मतलब डर एवं जो डर गाया वह मर गया । हम वर्तमान में न जीकर वास्तविक रूप में अतीत में जीते हैं । प्रस्तुति अच्छी लगी । बहुत दिन हो गए । आपने तो मेरे पोस्ट पर आना ही छोड़ दिया । मेरी कामना है कि आप अहर्निश सृजनरत रहें । मेरे नए पोस्ट अमीर खुसरो पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी.......आपकी पोस्ट पर आउंगी.

      Delete
  10. सच है ये भूत नहीं उतरता ... उम्र भर साथ चिपका रहता है यादों के रूप में ...
    भाव मय ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. यादों के रूप में ....उम्र भर साथ.

      Delete
  11. बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति...बधाई...

    ReplyDelete
  12. अब कौन समझाए सबको
    कि उस "किसी "को
    जो मेरा यह भूत उतारे
    यह लोग कहाँ ढूंढ पायेंगे ?

    ....सच है यह भूत उम्र भर कहाँ पीछा छोडता है...बहुत सुन्दर प्रस्तुति...आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच्ची...भूत कभी पीछा नहीं छोडता .

      Delete
  13. खुद को बांधा है शब्‍दों के दायरे में - - संजय भास्कर
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है निधि जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. थैंक्स......आउंगी,पोस्ट पर.

      Delete
  14. अब कौन समझाए सबको
    कि उस "किसी "को
    जो मेरा यह भूत उतारे
    यह लोग कहाँ ढूंढ पायेंगे ?
    badi gahri baat... kahan se dhundh ke layen:)
    achchhi rachna...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया!!

      Delete
  15. हे हे ... भूत! सही कहा आपने..... वैसे इस तरह से आपका सोचने का अंदाज अच्छा लगा। मैं अभी भी सोच रही हूँ कि क्या तुलना किया है आपने! अद्भुत है! अबसे मैं भी भूत कहा करूंगी......

    ReplyDelete
    Replies
    1. तुम भूत कहोगी तो ....मेरा लिखना सफल.

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers