Tuesday, November 15, 2011

मेरी पहचान



कोई पहचान नहीं थी ...तुमसे
अब भी कुछ खास नहीं है...
पता नहीं क्यूँ??
फिर भी ...
मेरे दिल से एक आवाज़ आती है
कि कुछ तो है...
हमारे बीच ...

तनहा होती हूँ
तो...
रूह को कहते सुना है
कि
मेरी ही रूह का एक हिस्सा हो तुम
जो कहीं खो गए थे..
...अब मिले हो जाकर के
मेरा वजूद ...मेरी पहचान हो तुम.

37 comments:

  1. अब जो मिले हो...साथ ही रहना

    ReplyDelete
  2. गज़ब की पंक्तियाँ हैं।

    सादर

    ReplyDelete
  3. हाँ....रश्मिप्रभा जी ...मिल के जुदा न हो

    ReplyDelete
  4. यशवंत...रचना को पसंद करने हेतु,धन्यवाद ! !

    ReplyDelete
  5. .अब मिले हो जाकर के
    मेरा वजूद ...मेरी पहचान हो तुम...वाह! कुछ शब्द और इतनी गहरी बात कह दी आपने....

    ReplyDelete
  6. सुषमा...शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  7. सच.....इस वजूद से अलग होकर कोई पहचान मुमकिन भी नहीं....

    ReplyDelete
  8. kho rahe hai andheron me kahi ...tanhai me hi ruh baaten karti hai hamse ...lajawab

    ReplyDelete
  9. हमेशा की तरह लाजवाब रचना...निधि जी !!! बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  10. कुमार....वजूद के बिना वाकई क्या पहचान?

    ReplyDelete
  11. अशोक जी....रात के अँधेरे ..उन गहनतम बातों से मुलाक़ात करा देते हैं जिनसे दिन में हम बचते रहते हैं

    ReplyDelete
  12. संजय जी....आपकी बधाई स्वीकारती हूँ...शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  13. मेरी ही रूह का एक हिस्सा हो तुम
    जो कहीं खो गए थे..
    ...अब मिले हो जाकर के
    मेरा वजूद ...मेरी पहचान हो तुम.

    jiski yahi pahchaan kho jae to ?

    ReplyDelete
  14. कई बार उम्र गुजार जाती है पहचान नहीं मिलती ... और अगर मुश्किल से मिले तो खोना नहीं चाहिए ... पूरा प्रयास कर अपना वजूद बना के रखना जरूरी है ...

    ReplyDelete
  15. bhaut hi gahri aur sundar abhivaykti....

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  17. ...

    "वजूद बन गए हो..
    मेरे..
    ना खबर है हवाओं की..
    ना जुस्तजू है फिज़ाओं की..
    यूँ ही रहना..
    ता-उम्र..
    हमनवां बनकर..!!!"

    ...

    ReplyDelete
  18. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है ... नयी पुरानी हलचल पर कल शनिवार 19-11-11 को | कृपया पधारें और अपने अमूल्य विचार ज़रूर दें...

    ReplyDelete
  19. 'मेरा वजूद मेरी पहचान हो तुम '
    बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete
  20. आनंद जी...जिसकी यह पहचान गुम हो जाए....वो जिंदा रहेगा ...एक लाश की तरह

    ReplyDelete
  21. अपनी पहचान बनाए रखना ...बहुत ज़रूरी है ,दिगंबर जी .

    ReplyDelete
  22. प्रियंका........वजूद जो है....वही पहचान रहे..हमेशा.

    ReplyDelete
  23. अनुपमा जी...बहुत-बहुत शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  24. आशा जी...हार्दिक धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  25. bahut hi acchi prastuti hai..
    bahut hi sundar...

    ReplyDelete
  26. रीना जी...आभार !!

    ReplyDelete
  27. तनहा होती हूँ
    तो...
    रूह को कहते सुना है
    कि
    मेरी ही रूह का एक हिस्सा हो तुम
    जो कहीं खो गए थे..

    बहुत सुन्दर कोमल रचना...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  28. संजय जी....रचना को आपने पसंद किया....हार्दिक धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  29. राजेश कुमारी जी.....तहे दिल से शुक्रिया...पसंद करने के लिए

    ReplyDelete
  30. अनामिका ...........सही कहा ,आपने .दिल के तार ...जुड जाए ..तो ,ऐसा ही होता है .

    ReplyDelete
  31. आप की पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (१८) के मंच पर शामिल की गई है/.आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /आपका
    ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर स्वागत है /आइये /आभार /
    '

    ReplyDelete
  32. प्रेरणा जी...शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  33. मेरी जान फिर कुछ बना ...कुछ पका ...

    भटक रही थी सालों से
    पहचान जो खो गई थी ...
    हर चेहरा तलाशती
    हर दिल टटोलती
    भटकती रही रूह मेरी
    और आज ....
    जब तुम मिले तो लगा
    तलाश भी मुकम्मल हुई
    और रूह भी .....

    ReplyDelete
  34. वाह...तुलिका....रूह का मुकम्मल होना किसी भी रिश्ते के लिए चरम है...

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers