Sunday, November 13, 2011

रेलगाड़ी की पटरियां


मेरे शहर के करीब से होकर....
वो तेरा गुज़रना...
रेल से.
तुम्हारा,
मन नहीं हुआ..
कि,मिलते चलो .
सदा ....
ऐसे ही रहेंगे क्या ,हम?
रेलगाड़ी की पटरियों की तरह
साथ चलते हुए भी..
कभी न मिल पाने को ...मजबूर .

22 comments:

  1. सोच का सफ़र कहाँ कहाँ पहुँच जाता है ... बहुत ही अच्छी लगी रचना

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छे भाव व्यक्त किए हैं आपने !

    ReplyDelete
  3. उफ्फ...ये फासला......

    ReplyDelete
  4. साथ रहते हुए भी एक ना होना... बेहद दुखद होता है
    परंतु साथ होना भी कम ना होता है।

    ReplyDelete
  5. kshitij par to milte huye dikhenge na....bahut acchi rachna....

    ReplyDelete
  6. खुबसूरत भावाभियक्ति....

    ReplyDelete
  7. रश्मिप्रभा जी...जान कर अच्छा लगा कि रचना आपको अच्छी लगी .

    ReplyDelete
  8. कुमार...उफ़ के अलावा कुछ किया भी नहीं जा सकता ..इस तरह के फासले के लिए .

    ReplyDelete
  9. ह्यूमन ...थैंक्स!!

    ReplyDelete
  10. संगीता जी...हार्दिक धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  11. विवेक जी...साथ चल के भी ..मिल न पाने की पीड़ा बहुत होती है

    ReplyDelete
  12. प्रियंका....शुक्रिया!!क्षितिज पे मिलना ...आभास ही तो है...वास्तव में मिलन कहाँ?

    ReplyDelete
  13. महेंद्र जी......हार्दिक धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  14. बहुत दर्द भरा है ..इस कविता में.

    मायूस न हो ऐ दिल
    मिलेंगे जरुर ..इस जहाँ में
    नहीं तो उस जहाँ में.

    बहुत सुन्दर लिखा आपने.

    ReplyDelete
  15. शुक्रिया......संतोष जी.
    उम्मीद पे दुनिया कायम है.

    ReplyDelete
  16. आप बहत अच्छा लिखती है मैं आपसे बहुत प्रभावित हूँ निधि जी !!

    ReplyDelete
  17. ...


    "गुज़र गयी..
    शहर से तेरे..
    ना गुज़र सकी..
    मेरी यादों के झरोखों से..
    पानी की कतार..!!!"

    ...

    ReplyDelete
  18. संजय जी...आपका शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  19. प्रियंका.....यूँ बिना मिले...शहर से गुजरना ..अच्छा है क्या?

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers