Saturday, November 19, 2011

बीती रात


बीती रात
कुछ ऎसी बात हुई ..
बेमौसम बरसात हुई
सच है ..
मुझको खुशियाँ रास नहीं आती
जैसे ...
कुछ लोगों को रिश्ते रास नहीं आते
वो गरजना...वो बरसना मुझ पर
भिगो गया मेरा मन ...

बहुत फिसलन भरी हैं..
प्यार की रहगुज़र
संभालना ...खुद को
कहीं साथ छूट ना जाए
और बस मलाल रह जाए ...ताउम्र

31 comments:

  1. बहुत फिसलन भरी हैं..
    प्यार की रहगुज़र

    वाह...क्या बात कही है...लाजवाब...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  2. नीरज जी...तहे दिल से शुक्रिया....ब्लॉग पर आने..रचना को पढ़ने एवं सराहने के लिए.

    ReplyDelete
  3. बहुत फिसलन भरी हैं..
    प्यार की रहगुज़र
    संभालना ...खुद को
    कहीं साथ छूट ना जाए
    और बस मलाल रह जाए... क्योंकि अक्सरहां यूँ ही होता है

    ReplyDelete
  4. सही कहा बहुत फ़िसलन है इन राहो पर्………सुन्दर भाव समन्वय्।

    ReplyDelete
  5. निधि जी बहुत खूबसूरत कविता |ब्लॉग पर आने के लिए आभार

    ReplyDelete
  6. महेंद्र जी....आभार!!

    ReplyDelete
  7. जयकृष्ण जी....थैंक्स!!

    ReplyDelete
  8. शुक्रिया....यशवंत!!

    ReplyDelete
  9. वंदना....हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  10. रश्मिप्रभा जी ...सच में...अक्सर,यही मलाल रह जाता है ...शेष

    ReplyDelete
  11. सच...थोड़ी मुश्किलों भरी डगर है....साथ रहे...तो मजबूती आएगी...

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन शब्द रचना.....

    ReplyDelete
  13. भींगे हुए रास्ते पर बड़ा संभल-संभल कर चलना पड़ता है।

    ReplyDelete
  14. मन को यूँ भिगोना धेरे धीरे मन को सुखा भी देता है .. अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  15. संगीता जी ...बेवजह कोई भी बरसे...तो मन में कहीं तो सूखा पद ही जाता है

    ReplyDelete
  16. मन के भीगे भाव लिए रचना ...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  17. बहुत फिसलन भरी हैं..
    प्यार की रहगुज़र
    संभालना ...खुद को
    कहीं साथ छूट ना जाए
    और बस मलाल रह जाए ...ताउम्र
    bahut khoob...

    ReplyDelete
  18. कुमार....साथ से तो हर परेशानी हल हो सकती है..

    ReplyDelete
  19. सुषमा....हार्दिक धन्यवाद! !

    ReplyDelete
  20. मोनिका...थैंक्स!!

    ReplyDelete
  21. प्रियंका....बहुत-बहुत शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  22. वह बहुत खूब लिखा है निधि, सचमुच बहुत फिसलन है.....संभालना.....

    ReplyDelete
  23. निधि जी, महिला सुलभ सुंदर भावनाओं से ओतप्रोत आपकी हर रचना हृदय को झंकृत कर जाती है....बधाई...!!!

    ReplyDelete
  24. अंजू...संभल-संभल कर पैर रख रही हूँ इस नयी राह पे...देखो,क्या होता है

    ReplyDelete
  25. शंकर जी...बहुत -बहुत आभार,आपका.

    ReplyDelete
  26. संभालना ...खुद को
    कहीं साथ छूट ना जाए
    और बस मलाल रह जाए ...ताउम्र ................संभालना ...खुद को
    कहीं साथ छूट ना जाए
    और बस मलाल रह जाए ...ताउम्र वाह निधि !आपकी कविता कि पंक्तियों ने दिल के तार झनझना दिए .......

    ReplyDelete
  27. ये इश्क नहीं आसां बस इतना समझ लीजे
    इक आग का दरिया है और डूब के जाना है
    सच निधि! .. कुछ लोगों को खुशियाँ रास नहीं आती .....दर्द रास आते हैं ....चलो दर्द का रस लेते हैं ...आनंद उठाते हैं ...उसी में डूब जाते हैं ............

    ReplyDelete
  28. सरोज....बस यही चाहती हूँ कि मेरा लिखा सबके दिल तक पहुंचे.आपने पसंद किया,आपका शुक्रिया !

    ReplyDelete
  29. हाँ तूलिका...बहुत कठिन है राह प्रेम की ...दर्द ज्यादा हैं...पर उस दर्द में भी मज़ा है....उस का ही उत्सव मना लेते हैं.

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers