Friday, November 25, 2011

आज ,कुछ नया करते हैं



आज, कुछ नया करते हैं
बहुत वक्त से प्यार की बात कर रहे हैं
आज, चलो..प्यार करते हैं .

सोचा है....
एक नया संगीत रचेंगे
धडकनों के सुर पर थिरकेंगे
साँसों की ताल पर बहकेंगे
कुछ नया करेंगे....

सोचा है...
एक नया नशा करेंगे
एहसासों के जाम पीयेंगे
जज्बातों के नशे में झूमेंगे
कुछ नया करेंगे .....

सोचा है...
कुछ नया लिखेंगे
तेरे मेरे लबों पर
जो टिके हुए हैं बरसों से
वो हर अलफ़ाज़ बहेंगे
कुछ नया करेंगे ...

सोचा है.....
एक नयी तरह जलेंगे
बदन से बदन तक
जो तपिश जाती है
आज उसमें तपेंगे
कुछ नया करेंगे ...

सोचा है....
नयी मंजिलें तय करेंगे
हरेक दीवार गिरा देंगे
सारी दूरियां मिटा देंगे
कुछ नया करेंगे....

प्यार की बातें बहुत हो चुकीं
आज... बस, प्यार ..सिर्फ प्यार करेंगे
प्यार ही खोजेंगे
प्यार ही पायेंगे
प्यार में ही डूबेंगे
प्यार मं ही तरेंगे
बस..................
प्यार ही करेंगे .

28 comments:

  1. प्यार की बातें बहुत हो चुकीं
    आज बस प्यार ..सिर्फ प्यार करेंगे
    प्यार ही खोजेंगे
    प्यार ही पायेंगे
    प्यार में ही डूबेंगे
    प्यार मं ही तरेंगे
    बस..................
    प्यार ही करेंगे .sahi faisla

    ReplyDelete
  2. सोचा है...
    कुछ नया लिखेंगे
    तेरे मेरे लबों पर
    जो टिके हुए हैं बरसों से
    वो हर अलफ़ाज़ लिखेंगे
    कुछ नया करेंगे ...


    बेहद प्रभावशाली रचना ....सच में आज कुछ नया करेंगे .....!

    ReplyDelete
  3. सोचा है....
    नयी मंजिलें तय करेंगे
    हरेक दीवार गिरा देंगे
    सारी दूरियां मिटा देंगे
    कुछ नया करेंगे....

    बेहतरीन पंक्तियाँ।

    सादर

    ReplyDelete
  4. वाह .... बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  5. रश्मिप्रभा जी ...फैसले पे अपनी मोहर लगाने के लिए आभार .

    ReplyDelete
  6. केवल राम जी..बहुत-बहुत शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  7. यशवंत...पसंद करने के लिए धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ... सच है ही प्यार की बातें तो बहुत होती हैं पर प्यार नहीं होता ... सुन्दर पाती है प्रेम की ...

    ReplyDelete
  9. दिगंबर जी .....प्रेम की पाती को पसंद किया..आपका आभार !!

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत एहसास...

    ReplyDelete
  11. शुक्रिया...कुमार .

    ReplyDelete
  12. प्यार से बढकर और क्या है जहान मे।

    ReplyDelete
  13. प्यार भरी उम्दा लेखनी ...

    ReplyDelete
  14. वंदना...प्रेम से बढ़कर वाकई कुछ भी नहीं है..इस संसार में .

    ReplyDelete
  15. अंजू....तहे दिल से शुक्रिया....साथ बने रहने के लिए .

    ReplyDelete
  16. आज, कुछ नया करते हैं
    बहुत वक्त से प्यार की बात कर रहे हैं
    आज, चलो..प्यार करते हैं .बहुत अच्छा विचार है कुछ नया करने का...... बेहतरीन रचना....

    ReplyDelete
  17. सोचा है....
    नयी मंजिलें तय करेंगे
    हरेक दीवार गिरा देंगे
    सारी दूरियां मिटा देंगे
    कुछ नया करेंगे....

    प्यार भरी बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  18. सुषमा...मेरे विचार को समर्थन देने के लिए शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  19. कुश्वंशजी .............हार्दिक धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  20. खूबसूरत ख़याल ..नयी शुरुआत

    ReplyDelete
  21. संगीता जी....हौसला अफजाई का शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  22. प्यार की बातें बहुत हो चुकीं
    आज... बस, प्यार ..सिर्फ प्यार करेंगे
    प्यार ही खोजेंगे
    प्यार ही पायेंगे
    प्यार में ही डूबेंगे
    प्यार मं ही तरेंगे
    बस..................
    प्यार ही करेंगे .bhut pyari rachna....

    ReplyDelete
  23. आरती ...एक प्यार भरा शुक्रिया तुम्हारी इस प्यारी सी टिप्पणी के लिए.

    ReplyDelete
  24. प्यार प्यार और प्यार.....निधि क्या प्यार से भी प्यारा कुछ है............है न....तुम और तुम्हारी ये कविता.......:)

    ReplyDelete
  25. प्यार की भावनाओं से अभिसिंचित एक सुंदर और सार्थक रचना.....वो प्यार जिसका अहसास तरुणाई के धरोहर समझा जाता है,उसे परपक्व उम्र में, जबकि उसका ज़िक्र भी बेमानी सा लगने लगता है, इतने नयेपन के साथ जी पाना एक स्वप्न के साकार होने सा अहसास दे रहा है ....एक सफल रचना के लिए बधाई......!!!!!!

    ReplyDelete
  26. अंजू...मेरे लिए ..प्यार से प्यारा ...वाकई ,कुछ भी नहीं है ...
    प्रशंसा करने का यह खूबसूरत अंदाज़ भी प्यारा है.

    ReplyDelete
  27. प्यार किसी उम्र की बपौती नहीं है...प्यार का उम्र से कोई लेना देना नहीं..प्यार भरा स्पर्श हरेक आयु में रोमांचित करता है..अच्छा लगता है.
    शंकर जी...आपको रचना अच्छी लगी..इस हेतु आपका धन्यवाद.

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers