Sunday, January 29, 2012

यादों का दलदल


आज ..
किस राह निकल आयी मैं .
वो गुज़रे दिन और रातें
वो कही - अनकही बातें
कहाँ पहुँच गयी मैं.
कितना रोका मैंने खुद को
कि न पलट के देखूं इनको .
पर..............
देखो, न
अब वापस आना चाहती हूँ
पर,
एक गलत कदम क्या उठा
फंस गयी हूँ ....
तेरी यादों के दलदल में
धंसती जा रही हूँ
निकल पाने का कोई रास्ता नहीं है
बच पाने की कोई एक राह नहीं है
जूझ रही हूँ ...
तेरी यादें
समाती जा रही हैं,मुझमें
मेरा वजूद
पनाह मांग रहा है,तुझमें

बाहर आने की एक तरकीब
तुम आओ करीब
हाथ बढ़ा के थाम लो मेरा हाथ
खींच लो बाहर मुझे यादों से
मीठी सी कुछ नयी यादें
देने के लिए .

36 comments:

  1. नयी यादों के साथ पुरानी भी कहाँ भूलती हैं .. अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. संगीता जी ....शुक्रिया!!कुछ भी विस्मृत कहाँ होता है...पर नयी यादें देने के लिए कुछ पल तो वास्तव में ...साथ गुज़ार पायेंगे.

      Delete
  2. ये यादो का काफिला हूँ ही साथ चलता रहे ...बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. आमीन !!शुक्रिया!!

      Delete
  3. यादो की खुबसूरत अभिवयक्ति.......

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर..
    सच है नयी यादें(बातें) ही पुरानी को ढांक पाती हैं...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहमत होने के लिए...आभार!!

      Delete
  5. बहुत ही सुन्दर कविता निधि जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. पसंद करने के लिए धन्यवाद!!

      Delete
  6. खूबसूरत अहसास ... मुश्किल है यादों के दलदल से बाहर निकलना... शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार...अहसास की खूबसूरती को सराहने के लिए.

      Delete
  7. बाहर आने की एक तरकीब
    तुम आओ करीब
    हाथ बढ़ा के थाम लो मेरा हाथ
    खींच लो बाहर मुझे यादों से
    मीठी सी कुछ नयी यादें
    देने के लिए .

    Khoobsurat prastuti.
    achchhi tarkeeb bataai hai aapne.

    I await you Nidhi ji on my blog.

    ReplyDelete
    Replies
    1. तरकीब अच्छी लगी इसके लिए थैंक्स!!आपके ब्लॉग पर अवश्य आउंगी .

      Delete
  8. Nidhi...I have been to your blog quite often and read the pain & the memories in your words. They are deep and so beautiful. Aaj ki is kavita se mai relate kar sakti hu, kyunki kabhi kabhi hamare paas yaadon ke siva kuch nahi hota, ham har pal rote hai magar rone ke baad bhi surkh lal aankhon mai yaadein hi rah jaati hai, aur kuch nahi.

    I found these lines so profound jaise yaadon mai aap suffocate ho rahe ho.

    निकल पाने का कोई रास्ता नहीं है
    बच पाने की कोई एक राह नहीं है

    Yahi dua hai ki yaadein aapki aankhein gamgeen na kare varan labo par muskurahat le aaye hamesha hi :)

    Take care, Shaifali

    ReplyDelete
    Replies
    1. शेफाली...मुझे अपना लिखना सफल लगने लगता है जब कोई यह कहे कि मैं आपके लिखे से रिलेट कर पाती हूँ .यादें ...दलदल सी ही होती हैं ...जितना निकलने के लिए हाथ पैर मारो..उतना ही अंदर धंसते जाते हैं .
      आप यूँ ही मुझे अपनी दुआ में शामिल रखिये...किसी की दुआओं में होने से सुखद कुछ भी नहीं है .

      Delete
  9. खूबसुरत यादों का आकर्षण ही कुछ ऐसा होता है...उनसे निकलना चाहते हैं तो भी एक खूबसुरत याद की बिनियाद पर...बेहद उम्दा...भाषा का प्रवाह एक चित्र उकेर देता है कल्पनाओं का...यह आपकी कविता की बहुत बड़ी विशेषता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी टिप्पणियाँ न जाने क्यूँ स्पैम में ही जा छुपती हैं...उम्मीद करती हूँ ,आपका स्वास्थ्य अब ठीक होगा.मैं भी प्रतीक्षारत थी,आपकी टिप्पणी हेतु.मेरी लेखनी की विशेषता को रेखांकित करने हेतु आभारी हूँ.

      Delete
  10. कृपया बिनियाद को बुनियाद पढ़ें...

    बिगड़े स्वास्थ्य की वजह से विलंब से आना हुआ।

    ReplyDelete
  11. बाहर आने की एक तरकीब
    तुम आओ करीब
    हाथ बढ़ा के थाम लो मेरा हाथ .....waah! aap ki tarkib bhi umda hai aur rachna bhi .....bdhaai aap ko

    ReplyDelete
    Replies
    1. थैंक्स...तरकीब और रचना...दोनों को पसंद करने के लिए .

      Delete
  12. naye blog par aap saadar aamntrit hai

    गौ वंश रक्षा मंच

    gauvanshrakshamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत अहसास...दिल के जज़्बातों को ज़ुबान दी है आपने

    ReplyDelete
  14. बाहर आने की एक तरकीब
    तुम आओ करीब
    हाथ बढ़ा के थाम लो मेरा हाथ
    खींच लो बाहर मुझे यादों से

    वाह...बेजोड़ रचना...बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
    Replies
    1. नीरज जी...तहे दिल से शुक्रिया.

      Delete
  15. बहार आने की दूसरी तरकीब
    तुम आओ करीब
    हाथ बढ़ा कर थाम लो मेरा हाथ
    कदम बढ़ा कर चले आओ
    इन्ही यादों के दलदल में
    साथ मिलकर यादों को जीना भी
    कितनी मीठी यादों से भर देगा न

    ReplyDelete
    Replies
    1. तूलिका ..यह तरकीब तुम ही ढूंढ सकती थी,मेरे लिए.साथ साथ दूंब्ना तरना,मरना जीना ...इससे बढ़िया कुछ हो सकता है क्या ?!

      Delete
  16. Koi jawab nahi .... jane q ye daldal achchha lagne laga hai.

    ReplyDelete
  17. .. बहुत सुंदर .. निधि ...

    ख्यालो में जहाँ ‘यादों के दलदल’ मिलते है
    वही पर सुना है कविता के कमल खिलते है

    ReplyDelete
    Replies
    1. सौ फीसदी सही बात कही,आपने.

      Delete
  18. बाहर आने की एक तरकीब
    तुम आओ करीब
    हाथ बढ़ा के थाम लो मेरा हाथ
    खींच लो बाहर मुझे यादों से
    मीठी सी कुछ नयी यादें
    देने के लिए ... इतना तो कर सकते हो न

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers