Monday, January 16, 2012

जागो मेरे साथ ...



कितनी तन्हां रातें...
तेरे बिन गुजारी हैं.
आज.....
तुझे साथ पाके...
साँसों की सरगम पर ,
धडकनें गीत गा रही हैं .
मेरी उलझनें बढ़ा रहीं हैं .
तुम हो आगोश में..
कह रहे हो कि
बालों में उंगली फिराऊ
माथे को सहलाऊं
आँखों पे तुम्हारी
हल्का सा चुम्बन धरूं
दुलार करूँ ..लाड करूँ..प्यार करूँ
और सुला लूँ तुम्हें अपने काँधे पर .
जबकि,
मैं चाहती हूँ
कि तुम यूँ ही रहो मेरे कंधे पे सर रख के
बातें करें हम जी भर के
तुम जागो मेरे साथ
आज की सारी रात .

24 comments:

  1. कुछ मेरी भी तो सुनो... कहनी हैं जाने कितनी सारी बातें

    ReplyDelete
    Replies
    1. वही तो समझाने की कोशिश है...रश्मिप्रभा जी .

      Delete
  2. बातें करें हम जी भर के
    तुम जागो मेरे साथ
    आज की सारी रात .

    ओह निधि क्या लिखते हो आप सच में गज़ब ! कितनी सहज चाहत है आपकी !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आनंद जी...आपकी नवाजिश है...बस,और क्या कहूँ....

      Delete
  3. Replies
    1. संगीता जी....बस पूरी होने कि उम्मीद लगा रही है.

      Delete
  4. बहुत खूबसूरत ख्वाहिश

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया...वंदना .

      Delete
  5. मैं चाहती हूँ
    कि तुम यूँ ही रहो मेरे कंधे पे सर रख के
    बातें करें हम जी भर के
    तुम जागो मेरे साथ
    आज की सारी रात .

    बहुत खूबसूरत मासूम ख्वाहिश....

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद!!

      Delete
  6. मैं चाहती हूँ
    कि तुम यूँ ही रहो मेरे कंधे पे सर रख के
    बातें करें हम जी भर के
    तुम जागो मेरे साथ
    आज की सारी रात ...

    पुरुष और स्त्री की चाहतों
    के अंतर स्पष्ट करती
    रोमानी कविता
    .

    आपकी चाहत पूरी हो...

    ReplyDelete
    Replies
    1. मनोज जी...दो व्यक्ति ....एक ही रात में ..साथ होते हुए भी...एक दूसरे के साथ की चाहत करते हैं पर वो साथ किस तरह का हो...यहाँ अंतर है.आपको रचना अच्छी लगी...शुक्रिया!!

      Delete
  7. लाजवाब चित्रण|

    ReplyDelete
  8. ये जीवन यूँ ही गुजार जाए तो फिर क्या बात है ... कोमल जज्बात लिख दिए हैं आपने ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. काश ...यूँ ही जीवन गुजार जाए...........

      Delete
  9. बहुत ही प्यारी और खुबसूरत पंक्तिया.......

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति.....दिल की गहराइयों से

    ReplyDelete
  11. तहे दिल से शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  12. खूबसूरत रचना..

    ...

    "तनहा गुज़रती नहीं..
    शब-ए-तन्हाई..
    बहुत गुजारी है..
    तनहा ज़िन्दगी..
    ता-उम्र..!!!"


    ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. तन्हाईयों के तो पल भी नहीं कटते ..तुम पूरी रात की बात करती हो .जानलेवा होता है....यह आलम तन्हाई का .

      Delete
  13. तुम जागो मेरे साथ
    आज की सारी रात
    और फिर ..इस रात की
    कोई सहर न हो ..
    वियोग का प्रहर न हो ...
    एक ..बस एक रात
    ........नवाज़ दो न |

    ReplyDelete
    Replies
    1. तूलिका...पढ़ने के बाद बस एक ही आवाज़ आयी ...............काश !!वैसे वियोग के बिना कोई मिलन होता है क्या?

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers