Friday, December 23, 2011

प्रेमांकुर


मेरे मन की
इस बंजर धरा पर ..
प्रेम के अंकुर
फूटे हैं....
पहली बार .
तुम ही कारण हो
इसको बनाने में उर्वरा .
स्नेह रस की वर्षा के बाद
जब-जब चाहत की फसल उगेगी
तुम याद आओगे,बेइंतिहा ....

28 comments:

  1. खुदा करे ये फसल...यूँ ही लहलहाती रहे हमेशा...

    सादर

    ReplyDelete
  2. सुन्दर...
    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर और मनभावन...सीधे दिल को छूते शब्द.
    आभार..

    ReplyDelete
  4. विद्या...पढ़ने एवं पसंद करने हेतु धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. संतोष जी....तहे दिल से शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  6. रश्मि जी...आभार,आपका .

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन और अदभुत अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  8. वाह ...बहुत ही बढि़या।

    ReplyDelete
  9. सुषमा...बहुत बहुत धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  10. सदा ....आपका आभार !!

    ReplyDelete
  11. प्रेम करने और उसके अहसास- दोनों के लिए पहले स्वयं को प्रेम करना होता है। यह जब भी आता है,भीतर से ही आता है।

    ReplyDelete
  12. कुमार राधारमण जी.............बिलकुल सच कहा ,आपने .

    ReplyDelete
  13. प्रेमपुर्ण रचना

    साधु-साधु

    ReplyDelete
  14. शुक्रिया !!अरुण जी

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर रचना....

    "काव्यान्जलि"--नई पोस्ट--"बेटी और पेड़"--में click करे

    ReplyDelete
  16. प्रेम के एहसास में जीना भी तो उनको याद करना ही है ... लाजवाब कविता है ..

    ReplyDelete
  17. धीरेन्द्र जी...आभार!!जैसे ही समय मिलेगा...ज़रूर आउंगी .

    ReplyDelete
  18. दिगंबर जी...प्रशंसा हेतु,धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  19. दिल के सुंदर एहसास
    हमेशा की तरह आपकी रचना जानदार और शानदार है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद!!

      Delete
  20. .. बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ है निधि ...

    .. आपकी रचनायें आपके सुंदर सोच की परिचायक है .. :))

    ReplyDelete
  21. जब-जब चाहत की फसल उगेगी
    तुम याद आओगे,बेइंतिहा ....

    निधिजी, बेहद खूबसूरत पंक्तियाँ है यह. सच है, पहला प्यार सदेव ही के लिए कैद हो जाता है आत्मा की धरा पर, और उस पर से हमेशा ही दूब की तरह कोमल रंग वाली पत्तियाँ जब लहलहाती है, वो याद जरूर आता है.

    -Shaifali

    ReplyDelete
    Replies
    1. ह्म्म्म...बिलकुल ठीक कहा...हमेशा याद आता है....भरपूर याद आता है...बेइंतेहा याद आता है.

      Delete
  22. ये प्रेम की फसल बढे और खूब फुले- फले..
    बहुत सुन्दर प्यारी रचना..
    :-)

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers