Saturday, December 3, 2011

इतना याद आना




किस बात पे याद आते हो?
कितना याद आते हो?
क्यूँ याद आते हो??????
बड़ा मुश्किल होता है
ये सब बही खाते ..
रख पाना .
इसलिए ,
जब भी याद आना
मेरी जान...
हर बात पे याद आना
बिना किसी कारण याद आना
बेहिसाब याद आना
मैं खुद को भूल जाऊं
बस,इतना याद आना.

31 comments:

  1. मेरी जान...
    हर बात पे याद आना
    बिना किसी कारण याद आना
    बेहिसाब याद आना
    मैं खुद को भूल जाऊं
    बस,इतना याद आना..
    ............
    वाह, वाह , वाह
    शब्दों की जादूगरनी हैं आप! क्या खूब लिखती हैं आप ! आपकी पोस्ट का बेसब्री से इंतजार रहता है !

    ReplyDelete
  2. SCORLEO...आपका बहुत बहुत शुक्रिया रचना को पसंद करने हेतु.अच्छा लगा यह जान कर कि मेरा लिखा आप को पढ़ना अच्छा लगता है.

    ReplyDelete
  3. क्या बात है । आपेक पोस्ट ने बहुत ही भाव विभोर कर दिया । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है ।

    ReplyDelete
  4. .....मैं खुद को भूल जाऊं
    बस,इतना याद आना.

    वाह ....यह है पराकाष्ठा

    ReplyDelete
  5. फिर भूलने की बात ही न होगी ...बहुत सुंदर ...!!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर ... भाव और प्रवाह पूर्ण रचना

    ReplyDelete
  7. वाह ………क्या इल्तिज़ा है…………बहुत खूब्।

    ReplyDelete
  8. प्रेम जी ...शुक्रिया.आपकी पोस्ट पढ़ने अवश्य,आउंगी.

    ReplyDelete
  9. वंदना...हाँ, बस इतनी ही चाहत है.

    ReplyDelete
  10. अनुपमा...और क्या..भूलने की बात ही न होगी .

    ReplyDelete
  11. संगीता जी...हार्दिक धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  12. वंदना.....इल्तिजा कुबूल हो जाए ,बस.

    ReplyDelete
  13. मैं खुद को भूल जाऊं
    बस,इतना याद आना.... बहुत खुबसूरत इल्तजा है..... कुबूल जरुर होगी.....

    ReplyDelete
  14. सुषमा.......आमीन!!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर....मुझे बहुत पसंद आई आपकी कविता..
    शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  16. बिना किसी कारण याद आना
    बेहिसाब याद आना
    मैं खुद को भूल जाऊं
    बस,इतना याद आना.
    कुछ शब्दों में गहन अभिव्यक्ति। बहुत उत्क्रष्ट प्रस्तुति...निधि जी
    .... व्यस्त होने के कारण काफी दिनों से ब्लॉगजगत को समय नहीं दे पा रहा हूँ ...!

    ReplyDelete
  17. खूबसूरत बयान-ए-अंदाज़..


    ...

    "याद आते नहीं..
    रहते हैं वो..
    रूह में जो..!!!"


    ...

    ReplyDelete
  18. विद्या जी.......आपका आभार

    ReplyDelete
  19. संजय जी...आपके कमेंट्स का मुझे इंतज़ार रहता है क्यूंकि आप काफी समय से साथ बने हुए हैं...आपकी टिपण्णी काफी वक्त बाद पढ़ना ,अच्छा लगा...शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  20. हाँ सच ही तो है...प्रियंका ,जो रूह में बस जाते हैं वो भला क्यूँकर याद आयेंगे ...खुद में जो समा जाए वो भी कोई भला याद आता है

    ReplyDelete
  21. वाह ... याद बनी रहनी चाहिए ,.... चाहे खुद को भूल जाओ पर उन्हें नहीं ... कुआ बात है ...

    ReplyDelete
  22. दिगंबर जी...अपने को भूल कर ...संपूर्ण समर्पण ही तो प्रेम की पहली शर्त है

    ReplyDelete
  23. निधि जी ,याद हमारे मन मस्तिष्क में ईश्वर के द्वारा स्थापित एक ऐसा सोफ्टवेयर है जो कभी हमको मुस्कान के पल दे जाता है तो कभी आंसुओं की सौगात| आपने अपनी कविता में उसी याद को एक अलग तरीके से जिया है और जीने की आकांशा की है,,,एक सुंदर हृदयग्राही रचना के लिए बधाई ......!!!!

    ReplyDelete
  24. बहुत खूब...........wo jab yaad aaye ....bahut yaad aaye........

    ReplyDelete
  25. just too gud!!!!!!!!!yaad aane ki koi wajah n ,koi shart n ho bas yaad aate raho.bahut sahi nidhiji.

    ReplyDelete
  26. भावना ....हाँ..बेहिसाब और बेशुमार याद आये .

    ReplyDelete
  27. शंकर जी ...इतनी विस्तृत टिप्पणी हेतु धन्यवाद!!यादें..अच्छे पलों की हों या खराब...जिससे जुडी हों उसके करीब पहुंचा देती हैं.

    ReplyDelete
  28. जान कुछ ना कुछ लिखवा ही लेती हो ......अजीब ज़बरदस्ती है

    "वक़्त मौसमों के पैराहन बदलता है
    तुम्हारी याद का मौसम नही ढलता "

    तुम्हारे लेखन मे खुद को महसूस किया है मैने ......पता नहीं क्यों?...पर ऐसा ही है ...

    ReplyDelete
  29. ... बहुत उम्दा .. ‘नज़्म’ है ‘निधि’ ....

    किये थे साथ मिलकर कुछ वादे
    दिलाकर याद वो खुद भूल गया है

    ReplyDelete
  30. अमित....बेहतरीन शेर!!
    तहे दिल से शुक्रिया,पसंद करने के लिए .

    ReplyDelete
  31. तूलिका ...देखो न..इसी बहाने तुम कुछ लिखती रहती हो...अब जोर कहो या ज़बरदस्ती ...ऐसा ही है जी ...
    कुछ लोगों की यादों का मौसम कभी नहीं ढलता ...सच में.

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers