Tuesday, December 27, 2011

जंगल



जंगल....
बिलकुल तुम्हारी आँखों जैसे हैं..
मुझे बुलाते हैं बड़ी शिद्दत से.....
ये अपने करीब.

इनमें जाने का भी मन करता है
डर भी लगता है
कि,
कहीं....
रास्ता ही न भूल जाऊं मैं
ताउम्र ,भटकती ही न रह जाऊं मैं .

32 comments:

  1. कल्पना अच्छी है, परंतु आँखों से जंगल की तुलना - ये थोड़ा अटपटा लगा। फिर भी सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाइयाँ।

    ReplyDelete
  2. वाह...
    बहुत प्यारी रचना...

    ReplyDelete
  3. अच्छी प्रस्तुति.
    झील सी गहरी आँखे सुना था
    अब जंगल की भूल भुलैय्या

    वाह!

    ReplyDelete
  4. सुंदर उपमा..!!!'




    ...

    "तेरी यादों के जंगले में खोये जाते हैं..
    रूह-से-रूह जुड़े कुछ ऐसे नाते हैं..!!"

    ...

    ReplyDelete
  5. वाह …………॥बहुत ही प्यारी रचना।

    ReplyDelete
  6. अद्भुत उपमा ..आँखें जंगल के समान ...अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. उनकी आँखों ही जंगल होँ तो कौन निकलना चाहेगा .... सुन्दर भाव ...

    ReplyDelete
  8. अनुपमा...थैंक्स!!

    ReplyDelete
  9. नवीन जी..शुक्रिया कि आपने अपने मन का कहा ...यहाँ,जंगल से तुलना ...उनमें खो जाने भटक जाने के कारण की है.मैं,आशा करूंगी कि आप आगे भी ...जो अटपटा लगेगा ,ज़रूर बताएँगे .

    ReplyDelete
  10. अमृता...तहे दिल से शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  11. विद्या....धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  12. राकेश जी..जंगल की भूल भुलैया को पसंद करने हेतु,आभार!!

    ReplyDelete
  13. वन्दना ...प्यारी सी टिप्पणी के लिए प्यार भरा धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  14. संगीता जी....हार्दिक धन्यवाद,नए बिम्ब को पसंद करने के लिए.

    ReplyDelete
  15. दिगंबर जी...सच,कोई बेवाकूफ ही होगा जो निकलना चाहेगा

    ReplyDelete
  16. बड़ी उलझन है...

    ReplyDelete
  17. कुमार...क्या उलझन है?

    ReplyDelete
  18. रूह से रूह का मिलना ...यादों के जंगल में खोना
    क्या बात है,प्रियंका.

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    ..इतना उम्दा लिखने के लिए शुक्रिया...निधि जी

    ReplyDelete
  20. संजय जी .....पढ़ने एवं सराहने के लिए आपका शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  21. इनमें जाने का भी मन करता है
    डर भी लगता है
    कि,
    कहीं....
    रास्ता ही न भूल जाऊं मैं ...
    ....
    ये है निधि की कविता ...जब निधि अपने रंग में लिखे तो ...वाह !

    ReplyDelete
  22. आनंद जी.....नवाजिश!!

    ReplyDelete
  23. ऐसे जंगल मे घर बनाने को जी चाहता है मेरी जान .......की तेरी आँखों को चुना है मैने दुनिया देखकर ..........मगर किराया जुटाते जुटाते उम्र तमाम हुई जाती है........होम लोन तो ले लिया है.......दिल गिरवी रख के ...... अब मुहब्बत करके EMI चुका रहे हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. तूलिका...ठीक है ना...मोहब्बत करके EMIचुकाना भी नसीब वालों को ही मिलता है.बहुत ही सुन्दर टिप्पणी ...शुक्रिया!!

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers