Thursday, December 22, 2011

गुलाबी सर्दियाँ



सर्दी में...
हमारे बीच यह दूरियां ........

मेरी इन गर्म साँसों का...
इन आहों का...
धुंआ ....
क्या पहुंचता है तुम तक
कोहरे के साथ ,
और छूता है तुम्हारे चेहरे को,
सहला देता है ....

गुलाबी हो जाते हैं ...
गाल,नाक ,चेहरा
ठण्ड के कारण ही ...है न ???

24 comments:

  1. जो भी कह लो, मुझे पता है इस गुलाब के खिलने का राज़

    ReplyDelete
  2. कल 23/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. मगर फिर भी ये सर्दियां सुन्‍दर हैं।

    ReplyDelete
  4. ठण्ड में गर्म सासों का अर्थपूर्ण सुंदर चित्रण,....
    मेरी नई रचना के लिए "महत्व" मे click करे

    ReplyDelete
  5. वाह! बहुत खूब...
    सर्दियाँ मुबारक....

    ReplyDelete
  6. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  7. वाह...खूबसूरत कविता.

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत..
    ...

    "साँसों की छुअन..
    बेकाबू अरमान..
    अजीब खलिश..
    इस गुलाबी सर्दी..!!"


    ...

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  10. रश्मि जी...राज़ को राज़ रहने दीजिए

    ReplyDelete
  11. यशवंत...थैंक्स!!

    ReplyDelete
  12. अनुजा दी..सर्दियों का अपना ही मज़ा है

    ReplyDelete
  13. धीरेन्द्र जी...धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  14. संजय जी...आपको भी सर्दियाँ मुबारक

    ReplyDelete
  15. अतुल जी...हार्दिक धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  16. विद्या..तहे दिल से शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  17. प्रियंका...सर्दियों में ..साँसों की छूअन से अरमान बेकाबू हों तो सर्दियों का आनंद दोगुना हो जाता है

    ReplyDelete
  18. खूबसूरत अहसास गर्म साँसों का.सर्दियाँ मुबारक...

    ReplyDelete
  19. अशोक जी ....आपको भी यह गुलाबी सर्दियां,मुबारक .

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers