Thursday, February 9, 2012

कमबख्त इश्क


मुझे जब से इश्क हुआ है
मैं भी ढूंढ रही हूँ
एक ऐसी घडी
एक ऐसा कैलेंडर
जो मुझे सही वक्त .....तारीख ...महीना ...साल बता दे
सब कुछ उलट पुलट है
अस्त व्यस्त है
जब से ये कमबख्त इश्क आया है जीवन में....
तुम्हें कुछ पता चले...
तो मुझे भी बताना
दिन ,महीने, साल के बारे में ....

31 comments:

  1. वाह ...प्यार और इंतज़ार ..और उसकी बेसब्री ....बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. सब उलट-पुलट कर के रख देता है...प्यार.

      Delete
  2. मैं अब निश्चिन्त हो गया हूँ निधि ....

    कि समय का हिसाब किताब अब मेरी पहुँच से ज्यादा दूर नहीं है ...जैसे ही तुमको पता चलेगा मैं झट से पूछ लूँगा !

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं तो खुद पूछ रही हूँ...आपको क्या बताउंगी.चलिए एक डील करते हैं...जिसे पहले हिसाब किताब पता चला वो दूसरे को बता देगा

      Delete
    2. जवाब तो मुझे भी चाहिए ......लाइन में लगी हूँ ...बताना पता चले तो

      Delete
  3. कल 10/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. सच्ची इश्क उलट पुलट कर देता है जिंदगी..
    बहुत सुन्दर रचना ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. अगडम-बगडम ....कर देता है इश्क.

      Delete
  5. इश्क के साथ वक्त का पता ही नहीं चलता...सटीक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. इश्क के साथ किसी भी और चीज़ का पता नहीं चलता

      Delete
  6. कहाँ मिलेगा ऐसा केलेंडर...? :)
    खूबसूरत अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं तो खुद खोज रही हूँ....

      Delete
  7. इश्क कमबख्त! बहुत प्यारी लगी आपकी ये बातें!

    ReplyDelete
  8. कैसे याद रहेंगे दिन महीने और साल......कैलेण्डर में तो सिर्फ इतना ही समा सकता है .....और प्रेम तो सदियाँ गुज़ार देता है ......सदियों का कैलेण्डर बने तो बताना

    ReplyDelete
    Replies
    1. जे बात.............तुमने की कुछ पते की बात.

      Delete
  9. इश्क है ही ऐसी चीज़ जब होता है तो
    इश्क करने वाला अपने होश खोता ही है ...
    बेहतरीन ,सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
    Replies
    1. इश्क है...होश भी...बात कुछ हजम नहीं होती..

      Delete
  10. इश्क होता ही ऐसा है उस पर जोर नहीं होता |और इंसान अपने होश खो देता है |अच्छी रचना |
    आशा

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच में ,अपनी भी कोई खबर नहीं रहती ...

      Delete
  11. ishk par jor nahee....bahut acchee rchnaa....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत शुक्रिया !!

      Delete
  12. इश्क में समय फुर्र हो जाता है,दिशाएं मिट जाती हैं और धुरी ठहर जाती है एक हिय पर...
    सुंदर भावाभिव्यक्ति!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. वक्त का तो वाकई पता ही नहीं चलता ..

      Delete
  13. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद!!

      Delete
  14. usey bhi kahaan maaloom hoga, ishq usne bhi to kiya...bahut sundar rachna, badhai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने ..उसे भी कहाँ मालूम होगा

      Delete
  15. Replies
    1. मोहब्बत.......उफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ़

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers