Saturday, October 22, 2011

कारण -कार्य सम्बन्ध


आज तलक़ मैंने यही सुना और पढ़ा
कि हरेक कार्य का कोई कारण होता है
जैसे बिन आग धुंआ नहीं होता
वैसे कोई काम बिन कारण नहीं होता
पर,
आज हुआ है प्यार
सोचती हूँ ,कि
क्या...........
हर पे लागू किया जा सकता है ये सिद्धांत
कैसे हर चीज़ के पीछे वही एक बात .??/

यहाँ "नहीं"....लागू होती ,यही उत्तर मन में आता है
दार्शनिक,वैज्ञानिक इन सबने....
दिल में लगी आग को नहीं देखा
देखा होता तो बता पाते धुंआ कहाँ हैं
सब देखा ...सब जाना ...आगे पीछे ,ऊपर नीचे,अंदर बाहर
बस इन्होने प्यार ही नहीं समझा...जाना .

अच्छा लगने के पीछे कारण ढूंढना
प्यार होने के एहसास को महसूस करते
यह सोचना कि क्यूँ हुआ ,कैसे हुआ
है प्यार को ही नीचे गिराना
एक उत्कृष्ट भावना का पोस्टमार्टम करना

मुझे जबसे इश्क हुआ
मैंने जाना कि कारण-कार्य संबध..
यहाँ ...लागू नहीं होता
बाकी भौतिक जगत आता होगा इसकी सीमा में
पर अनुभूतियों को नहीं बाँधा जा सकता इसकी परिधि में
इन्हीं प्रश्नों के उत्तर देने में
मेरा सारा पढ़ा हुआ चुक जाता है
समस्त जीवन का दर्शन और विज्ञान ,
अंततः........
प्रेम के समक्ष धरा रह जाता है

22 comments:

  1. ईश्वर पूरी सृष्टि में व्याप्त हैं ... जिस पर उनकी विशेष कृपा होती है उसे प्यार होता है ... ताकि उसे जीवन की हर भाषा का ज्ञान हो

    ReplyDelete
  2. प्रभावशाली रचना....

    ReplyDelete
  3. प्रेक की आग तो स्वत: ही लग जाती है ... प्रभावी अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  4. ्प्रेम का ना कोई कारण होता है और ना कार्य्…………स्वत: प्रवाहित होता है।

    ReplyDelete
  5. अंतर्मन की दशा जान पाना कठिन कार्य ही है..यूँ भी कहाँ कोई 'स्वयं' को खोज पाया है..??? वस्तुतः किसी भी कार्य को पूर्ण करने के लिये एक 'आत्मा' चाहिए होती है, जो आपको आपके दर्शन करा सके..आपका स्वयं से परिचय करवा सके..

    बहुत सुंदर चित्रण..!!!!

    ReplyDelete
  6. रश्मिप्रभा जी....सच,जिनपे ईश्वर की विशेष कृपा होती है...उन्हें ही प्यार होता है...मैं तो सौभाग्यशाली हूँ इस को मान लें तो

    ReplyDelete
  7. थैंक्स.............सुषमा !

    ReplyDelete
  8. संगीता जी...शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  9. दिगंबर जी..प्रेम की खूबी यही है की उसमें सब स्वतः ही होता है

    ReplyDelete
  10. आपने सही कहा,बिलकुल...वन्दना.

    ReplyDelete
  11. प्रियंका....कुछ भी कठिन नहीं है...दुश्वार नहीं है...यदि मन में ठान लिया जाए .

    ReplyDelete
  12. प्रभावशाली प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. सागर.........थैंक्स...आपको एवं आपके अपनों को दीपावली की शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  14. संजय जी...धन्यवाद!!आपको एवं आपके अपनों को दीपावली की शुभकामनायें !!मैं अवश्य आउंगी ..आपके ब्लॉग पर.

    ReplyDelete
  15. विजयपाल जी ...शुक्रिया...आपको एवं आपके अपनों को भी दीपावली की ढेरों शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  16. नयंक पटेलOctober 29, 2011 at 8:53 AM

    दिल में लगी आग को नहीं देखा
    देखा होता तो बता पाते धुंआ कहाँ हैं
    सब देखा ...सब जाना ...आगे पीछे ,ऊपर नीचे,अंदर बाहर
    बस इन्होने प्यार ही नहीं समझा...जाना ......क्या बात है बिना धुंवा की आग को कैसे जाने ?
    सब कुछ देखने पर भी इन्होने .........नहीं समझा ....जाना ....वो कैसी समझ है जो प्यार को समझे ?
    वो कैसी नज़र है जो प्यार को देख सके ? अच्छा लगने का कारण कैसे ढूंढे ?
    इन्हीं प्रश्नों के उत्तर देने में मेरा सारा पढ़ा हुआ चुक जाता है......
    निधि जी आप के सवालों में सिर्फ सवाल ही दिमाग से उठें है जवाब के लिए दिमाग चलना ही बंध हो जाता है ...

    ReplyDelete
  17. नयंक जी....सही तो है....कुछ चीज़ों के...सवालों के...लोगों के लिए जवाब दिल से ही निकलने चाहिए...वहाँ,दिमाग को कतई हावी नहीं होने देना चाहिए .आपका बहुत बहुत आभार....रचना को पसंद करने हेतु .

    ReplyDelete
  18. ..बहुत खूबसूरत रचना है निधि ..

    इश्क के syllabus 'तर्क-ओ-ज्ञान' नहीं शामिल
    इन विद्यार्थियों से न करें 'दर्शन-ओ-विज्ञान' की बातें

    ReplyDelete
  19. अमित ....शुक्रिया!!मेरी बात को पसंद करने और उससे सहमत होने के लिए भी ...प्यार के आगे तो..वाकई ...सब धरा रह जाता है..कोई रीजनिंग ...कोई लोजिक ...कोई ज्ञान...इसके आगे नहीं चलते .

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers