Monday, August 6, 2012

इंतज़ार में....




अक्सर
अपने घर के अकेलेपन में
महसूस होते हो तुम .

मैंने देखे हैं तुम्हारे होंठों के निशाँ
अपनी चाय की प्याली पे .

गीला तौलिया बिस्तर पे पडा
मुझको चिढाता हुआ.

सुनाई देती हैं मुझे मेरी आवाज़
जब दिखती हैं ,तुम्हारी चप्पलें
सारे घर में मटरगश्ती करती हुई .

तुम्हारी महक से पता नहीं कैसे
महकती हूँ मैं ...दिन और रात

आजकल यूँ ही
मुस्कुराती हूँ मैं...बेमतलब ,बेबात

बताओगे...?

ऐसा ही होता है क्या
किसी के इंतज़ार में .

28 comments:

  1. इंतज़ार की अनोखी छटाएं...

    ReplyDelete
    Replies
    1. उम्मीद है ...आपको पसंद आयीं

      Delete
  2. ये इंतज़ार नहीं ... बस प्रेम का पागलपन है ... जिसमें हर कोई डूबना चाहता है ...
    लाजवाब ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रेम में पागलपन न हो तो वो प्रेम कहाँ...

      Delete
  3. तुम्हारे होठों के निशाँ चाय की प्याली पे ... इंतज़ार के खूबसूरत लम्हे. बहुत प्यारी रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  4. शायद ऐसा ही होता है इंतज़ार में.. कभी करेंगे तो आपको ज़रूर बताएँगे :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब करना इंतज़ार तो बताना ज़रूर.

      Delete
  5. बिल्कुल जी यही होता है.....

    ReplyDelete
  6. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार o9-08 -2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... लंबे ब्रेक के बाद .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ,मेरी रचना को शामिल करने हेतु.

      Delete
  7. इस पागलपन को पढ़ना फिर से अच्छा लगा ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह पढ़ कर मन खुश हो गया

      Delete
  8. बहुत प्यारी रचना ...किसी के इंतज़ार में

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद!!

      Delete
  9. आपने इंतज़ार की अनुभूतियों को बड़े सलीके से शब्दों में बांधा है. अच्छी लगी ये नज़्म..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने पसंद किया और सराहा...आभारी हूँ.

      Delete
  10. बेहतरीन कविता
    जन्माष्टमी की बहुत-बहुत शुभकामनाये..!!

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers