Wednesday, September 28, 2011

मन करता है



बहुत बार मन करता है
कि
सबके बीच रहते हुए भी
मैं,निपट अकेले हो जाऊं .
वक्त से अपने लिए
कुछ क्षण चुरा लाऊँ .
उन पलों में न कोई और बोले
न हाथ धरे,न छुए
पूछे नहीं चुप्पी का कारण कोई
न सवाल जवाब हो कोई .
बस ....
अकेले लेटे हुए मैं
तुम्हारी यादों में
डूबती तरती जाऊं
सब कुछ भूल के
पार उतरती जाऊं

24 comments:

  1. अकेले लेटे हुए मैं
    तुम्हारी यादों में
    डूबती तरती जाऊं
    सब कुछ भूल के
    पार उतरती जाऊं....सुन्दर अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति .. अपने से अपनी बातें करने का मन ..

    ReplyDelete
  3. sab kuch bhool kar paar utar jaun... bahut khoob...aabhar

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति……………
    माता रानी आपकी सभी मनोकामनाये पूर्ण करें और अपनी भक्ति और शक्ति से आपके ह्रदय मे अपनी ज्योति जगायें…………सबके लिये नवरात्रि शुभ हों

    ReplyDelete
  5. ये पल भी कितना सुहाना होगा .. मैं और उनकी यादें .. लाजवाब लिखा है ..

    ReplyDelete
  6. भीड़ में भी सबसे अलग चलना .... सबसे मन की मुलाकात ही नहीं हो सकती

    ReplyDelete
  7. सुषमा....अभिव्यक्ति की सुंदरता को सराहने हेतु,आभार .

    ReplyDelete
  8. संगीता जी..कभी कभार...अपने से अपनी बात करना बहुत आवश्यक होता है...नितांत अपने पल..

    ReplyDelete
  9. प्रियंका....तहे दिल से शुक्रिया .

    ReplyDelete
  10. वंदना....धन्यवाद आपकी शुभकामनाओं हेतु.आपको भी नवरात्रि के पर्व पर ढेरों मंगल कामनाएं

    ReplyDelete
  11. मुकेश जी ..आजकल के समय में किसी चीज़ के लिए मन करना भी बड़ी बात है

    ReplyDelete
  12. आभार,दिगंबर जी.यकीनन सुहाना होता है .

    ReplyDelete
  13. रश्मिप्रभा जी...आपने बिलकुल ठीक कहा है.

    ReplyDelete
  14. मेम !
    नमस्ते !
    कविता पढ़ एक गीत याद आ गया '' मैं और मेरी तन्हाई अक्सर ये बाते करते ...'' वाकई इन्सान इतनी भाग दौड़ भरी जिंदगी में स्वयं के लिए कुछ पल निकालना कहता है . बधाई
    सादर

    ReplyDelete
  15. NIDHI Ji,
    Paar utarna kya, ye panktiyan yadi yatharth ho jayein to manushya Vaitarni paar kar jaye!!
    Bahut achha likha hai..

    ReplyDelete
  16. नमस्ते....सुनील जी.बहुत बहुत आभार..रचना को पढ़ने एवं प्रतिक्रिया देने हेतु

    ReplyDelete
  17. अनुपम....सच्ची बात है ...मनुष्य खुद को खोज ले तो वैतरणी पार कर जाए .शुक्रिया,आपको रचना पसंद आई और आपने टिप्पणी करी .

    ReplyDelete
  18. नयंक पटेलSeptember 30, 2011 at 7:59 AM

    किसी भी तरह पार तो उतरना ही है, इस संसार महा सागर के भंवरें और मौजों के बीच , कुछ डूबता कुछ तैरते ...चाहे किसी को भूल के या किसी की यादों के सहारे .....!!!

    ReplyDelete
  19. नयंक जी...सच है...मुख्य ध्येय तो पार उतरना ही है

    ReplyDelete
  20. bhaut hi bhaavpurn abhivaykti.....

    ReplyDelete
  21. सागर.......शुक्रिया !

    ReplyDelete
  22. आपकी कविता में भावों की गहनता व प्रवाह के साथ भाषा का सौन्दर्य भी उपस्थित है , अद्भुत लेखन


    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया,सराहने के लिए.

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers