Friday, September 9, 2011

सफाई पसंद नहीं हूँ



बिस्तर ...
उसपे,सिलवटों से भरी चादर .
चादर सही करती हूँ....
तुम्हें याद करती हूँ.
सख्त नापसंद हैं तुम्हें ,
ये सिलवटें .
फिर यह चादर पे हों
या मेरे चेहरे पर
बिस्तर के सिरहाने के पीछे
दिखे...
ढेरों जले
जल्दी से साफ़ किये
तुम्हें नहीं पसंद
ये जाले दीवारों पे हों
या यादों के जाले मन पर .

मुझे ये सिलवटें भी पसंद हैं
और वो भी ...
जो तुम्हारें माथे पे पड़ती हैं.
मुझे ये जाले भी पसंद हैं
और तुम्हारी यादों के जाले भी
जिनसे घिरी हुईं हूँ मैं .

मैं सफाई पसंद नहीं हूँ न ,तुम्हारी तरह.
कि पिछला सब धो पोंछ कर हटा पाऊं
घर से भी और मन से भी .

40 comments:

  1. अंतर्मन की भावना कहने में सफल आपकी कविता . अच्छे शब्दों का प्रयोग बधाई

    ReplyDelete
  2. मन की भावनाओं को बहुत ही खूबसूरती से शब्दों में पिरो दिया आपने.... बहुत खूब....

    ReplyDelete
  3. पिछला सब धोकर साफ़ कर देना इतना आसान नहीं होता ,मगर ऐसा करना तो चाहिए ...
    सलवटों के साथ जीवन स्वयं अपने लिए और दूसरों के लिए दुखदाई हो जाता है , ये जीवन एक बार ही मिलता है , रोने पिटने के लिए नहीं !
    फिर भी आपने बड़ी साफगोई से अपनी बात कही ...
    आभार!

    ReplyDelete
  4. कुरुवंश....बधाई स्वीकार करते हुए आपको धन्यवाद देती हूँ ..मेरा उत्साह वर्धन के लिए

    ReplyDelete
  5. सुषमा ...थैंक्स .

    ReplyDelete
  6. वाणी जी..आपने बिलकुल सही कहा की पिछला धोना आसान नहीं होता पर करना चाहिए...मुझे लगता है हरेक अपने स्तर पे कोशिश अवश्य करता है ...यह और बात है की उसमें सफल कितने होते हैं...मेरी साफगोई को पसंद करने हेतु आभार .

    ReplyDelete
  7. नारी मन की भावनाओ का बहुत खूबसूरत चित्रण किया है।

    ReplyDelete
  8. मन कि भावनाओं का खूबसूरती से चित्रण किया है

    ReplyDelete
  9. shabdon mein bhawon mein koi silwat nahin ... bahut hi badhiyaa

    ReplyDelete
  10. मन की बेचैनी को बहुत खूबसूरती से ब्यान किया

    ReplyDelete
  11. शनिवार (१०-९-११) को आपकी कोई पोस्ट नयी-पुरानी हलचल पर है ...कृपया आमंत्रण स्वीकार करें ....और अपने अमूल्य विचार भी दें ..आभार.

    ReplyDelete
  12. नारी मन से निकली भावनाएं ...खूबसूरती से लिखी हैं ..अच्छी प्रस्तुति....निधि जी

    ReplyDelete
  13. मन के भावों को बहुत खूबसूरत शब्द दिये हैं। बहुत संवेदनशील अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  14. Brajesh Kumar MishraSeptember 10, 2011 at 12:57 PM

    Nidhi :
    One thing is very sure that you have a great level of sensitivity and you simply don't jubmle the words, atleast.
    A great way of expression by connecting two different real life incidents.

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता ....

    ReplyDelete
  16. घर और मन की सफाई के बहाने आपकी अभिव्यक्ति
    अंतर्मन की गहनता का अहसास कराती है.

    सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए आभार निधि जी.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.
    नई पोस्ट जारी की है.

    ReplyDelete
  17. वंदना...नारी का मन बड़ा विचित्र है...हैं न?

    ReplyDelete
  18. संगीता जी...मन तो बड़ा ही जुल्मी होता है..न इस तरह चैन लेने देता है न उस तरह

    ReplyDelete
  19. रश्मिप्रभा जी..इस हौसला अफजाई के लिए आभार!!

    ReplyDelete
  20. अनु..मन बेचैन होता है तो क्या क्या नहीं करना पड़ता उसके चैन के लिए'

    ReplyDelete
  21. अनुपमा जी...थैंक्स!!

    ReplyDelete
  22. संजय जी...बहुत बहुत आभार!!

    ReplyDelete
  23. कैलाश जी...तहे दिल से आपका शुक्रिया..!!

    ReplyDelete
  24. ब्रजेश..आपसे क्या कहूँ...मैं जो भी लिख दूं आप इतनी प्रशंसा करते हैं कि धन्यवाद कहते भी नहीं बन पड़ता है..शर्मिंदगी सी होती है ..समझ नहीं आता क्या कहूँ ?

    ReplyDelete
  25. प्रियंका...आभारी हूँ !

    ReplyDelete
  26. शरद जी..आप पहली बार मेरे ब्लॉग पर आयीं...मेरी और से धन्यवाद स्वीकारें ..आशा है कि हमारा साथ आगे भी यूँ ही बना रहेगा

    ReplyDelete
  27. राकेश जी..मैं अवश्य आऊँगी..आपके ब्लॉग पर.

    ReplyDelete
  28. बहुत खूब ... यादों को साफ़ करना ... दिल से मिटाना आसान नहीं होता ...

    ReplyDelete
  29. एक-एक शब्द भावपूर्ण ...
    संवेदनाओं से भरी बहुत सुन्दर कविता.

    ReplyDelete
  30. दिगंबर जी...यही काम तो सबसे मुश्किल होता है..यादों से पीछा छुडाना ..अच्छा हो कुछ तो भी यादें आती हैं..खराब हो तो भी चली आती हैं

    ReplyDelete
  31. अंकित जी..पहली बार आने के लिए धन्यवाद.रचना आपको पसंद आई..आपने अपनी प्रतिक्रया व्यक्त की मैं ,आभारी हूँ

    ReplyDelete
  32. बहुत उम्दा प्रस्तुति!! एक कोशिश ही तो है जो हमारे हाथ में है...

    ReplyDelete
  33. उड़न तश्तरी जी..आभार.सही कहा,आपने..कोशिश करना तो सदैव हम इंसानों के हाथ ही होता है

    ReplyDelete
  34. .. बेहद सफाई से आपने अपनी बात रखी है .. निधि ..... खूबसूरत रचना से रूबरू कराने के लिए .. आभार ...

    मैल लेकर मन में बहुत साफगोई से
    हर बात पर वो मुझसे सफाई मांगते है

    ReplyDelete
  35. बहुत सुन्‍दर निधि।

    तुम्‍हारी अनुभूति छलक रही है.....।

    कविता को जैसा होना चाहिए.....बिल्‍कुल वैसी है....।

    बधाई।

    ReplyDelete
  36. aapki har ek kabita me ek gehre bhabw chhupe hote hai or main padh ke bas itna hi sochti hu ki aap kitni sehjta se kitne gehre bichar ko kitni aasani se panno pe utar deti hai...bahut khubsurat rachna hai aapki...kash aap mere facebook frnd me hoti....to main roj aapke activitis ko jan pati....

    ReplyDelete
  37. दी............शुक्रिया.आपके हरेक कमेन्ट के मेरे लिए मायने हैं..इंतज़ार करती हूँ की ...खुले दिल से कोई सच्चाई बताए...अच्छा लगा तो भी बोले .......खराब लगे तो ज्यादा जोर से बोले और मेरी कमी सुधारवा दे.

    ReplyDelete
  38. अमित...थैंक्स!!आपने भी खूब कहा...वैसे सच ही तो है हम सभी बाहर की सफाई पे इतना ध्यान देते हैं ह्रदय की कलुषता को मांज कर साफ़ करने की चेष्टा नहीं करते

    ReplyDelete
  39. आरती.पोस्ट पढ़ने और उसपे इतने विस्तार से टिप्पणी करने के लिए शुक्रिया .......मुझे बहुत अच्छा लगा जान कर की तुमने मुझे अपना दोस्त बनाने की इच्छा जाहिर की...

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers