Monday, July 4, 2011

बारिश में भीगते हुए ...

बारिश में भीगते हुए
बिजली के नंगे तार
उन तारों से लिपटी..
बूँदें सिमटी-सिमटी
तेरी यादें ले  आयीं
कुछ मीठी -मीठी
कुछ कड़वी-कड़वी .

उन बूंदों का एक-एक करके
तार को छोड़ कर चले जाना
बिसरा तार को
ज़मीन को गले लगाना
बिलकुल वैसा ही है
जैसे...तुम्हारे किये वादे.
जब करे,तब करे
आगे चल तुम्हारा ..
उन वादों को एक -एक करके
तोडना या भूलते जाना
और
अपने नए जीवन में
बिना अपराधबोध रमते जाना .

25 comments:

  1. बहुत ही भावपूर्ण ख्याल

    ReplyDelete
  2. मन के भावों को खूबसूरती से लिखा है

    ReplyDelete
  3. शिखा जी ....आप लगातार मेरा ब्लॉग का अनुसरण कर रही हैं...शुक्रिया!

    ReplyDelete
  4. रश्मि प्रभा जी ..बड़े दिन बाद आपका कमेन्ट मिला...धनयवाद!!!

    ReplyDelete
  5. संगीता जी...नवाजिश !!

    ReplyDelete
  6. आपकी रचना तेताला पर भी है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. bahut sunder rachna nidhiji.un taaro ka ek ek kar chhod kar jana-----tumhare kiye wade.

    ReplyDelete
  8. kyunn unn yadonn ko samet.....itniii vitriishnaa bhar chukey ho MANN meinnn..................abb to unn Boondonn kaa sahejnaa bhii to dekho..........Aaatii haiinn...barastii haiinn....mann ko ek bhaav de jaatii haiinn....kehtii haiinn...Bisriii yadonn ko bhool abb Aagey badhnaa SEEKHO......

    ReplyDelete
  9. आदरणीय निधि जी जी
    नमस्कार !
    सुन्दर शब्दों से सजाई हुई बेहद बेमिसाल रचना !

    ReplyDelete
  10. बारिश में भीगते हुए
    बड़ी खूबसूरती से कही अपनी बात आपने.....वाह बहुत ही सुंदर .... एक एक पंक्तियों ने मन को छू लिया!

    ReplyDelete
  11. करीब 20 दिनों से अस्वस्थता के कारण ब्लॉगजगत से दूर हूँ
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  12. वंदना...बहुत आभारी हूँ...कल नहीं आ पायी ,आज किसी वक्त अवश्य आऊँगी.

    ReplyDelete
  13. सुनीला जी...... आपको बिम्ब अच्छा लगा...थैंक्स !

    ReplyDelete
  14. संजय जी...
    नमस्ते!
    उम्मीद है कि अब आप पूर्ण रूप से स्वस्थ होंगे ...आपको पोस्ट पसंद आई..नवाजिश !!
    बड़े दिनों से मेरा ब्लॉग आपके कमेंट्स का इंतज़ार कर रहा था....

    ReplyDelete
  15. थैंक्स.........................विवेक .

    ReplyDelete
  16. जीवन में यह अपराधबोध बना रहे तोजीवन के प्रति नजरिया भी बदल जाए और हम जीवन कि सार्थकता को समझ सकते हैं ....आपका आभार

    ReplyDelete
  17. केवल राम जी...आपने बिलकुल ठीक कहा कि गलत करने के बाद यदि अपराधबोध हो...तो उससे अच्छी बात कोई नहीं..पर वैसे आजकल ऐसा होना ज़रा कम होता जा रहा है..

    ReplyDelete
  18. Adarniya Nidhi ji..
    Sadar Pradam,,,

    Barish me bigati rachna ne man ko bhi bhigo diya.

    Waqt mile to ap bhi ayen .... hame padhe aur hausla badhayen.

    Abhar

    ReplyDelete
  19. कितनी सहजता से अपराधबोध की परिभाषा बतलाई है आपने..!!! बहुत सुंदर...!!!!

    आपकी 'उपमाएं' बहुत सुंदर होती हैं..!!

    ReplyDelete
  20. रवि जी....शुक्रिया...मैं अवश्य आऊँगी

    ReplyDelete
  21. प्रियंका...अपराधबोध की परिभाषा देना जितना ही सरल ...उसके साथ जीना उतना ही दुष्कर ..है न?तुम्हें उपमाएं अच्छी लगी ...थैंक्स .

    ReplyDelete
  22. बादलों से बूंदों का साथ घड़ी दो घड़ी का ही होता है .......उनकी मंजिल तो प्यासी धरती की गोद ही होती है .....हाँ वो छोटी सी बूँद अपने क्षणभंगुर जीवन में कितनी आत्माओं को तृप्त करती चलतीं हैं ....बिजली के तारों पर तो उनका बैठना बस एक वादे के निभाने के जैसा ही होता है .... ...धरती में मिल कर खो ही तो देती है वो खुद को ....बिछड़ कर ज़िंदा कहाँ रह पाती है ..

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers