Saturday, July 9, 2011

मन की आवाज़


आज ,
माँ और कामवाली की बहस सुनते सुनते  
एकदम से सब सुनाई देना बंद हो गया
उनके ...मुंह चलते,होंठ हिलते दिखते रहे
सुनाई कुछ नहीं पड़ रहा था
थोड़ी देर बाद  महरी बर्तन मांजने लगी
माँ टी.वी देखने लगी  .
मुझे ,
कुछ कुछ सुनाई पड़ना शुरू हो गया
देखा माँ के होंठ नहीं हिल रहे
वो टी.वी देखते कुछ सोच रही थी
वो मैं सुन पा रही थी
महरी बर्तन मांज रही थी
उसके मन की बातें भी सुनाई पड़ रही थी


महरी...
पता नहीं क्या समझती है...
हर को हफ्ते में एक छुट्टी
हम एक टेम भी ना आये ..तो आफत
हजारों की शराब पी डालेंगे
सौ  रुपिया बढाने को बोलो
तो साली महंगाई है
हम पे चिल्लाती है खाली-पीली
बाकी किसी के आगे जबान नहीं खुलती
साला,सवेरे से उठो..खटो
घर घर जाओ,पैसा कमाओ
तब भी पति की गाली खाओ
ऐश है  इसकी..घर में रहती है
टी.वी.कम्पूटर ..देखती है
कोई काम नहीं करती
तब भी पति को सौ नखरे दिखाती है

माँ...
महंगाई बस जैसे
इनके लिए ही बढ़ी है हमारे लिए नहीं
जब देखो छुट्टी ..
काम कम ,सहूलियतें ज्यादा
वैसे ऐश है इसकी
अपना कमाती है
ज़रा सा कोई कुछ कह दे
तो एक छोड़ दूसरा घर पकड़ लेगी
यहाँ ,कोई कुछ कह दे
धमकी के लिए भी यह कहते नहीं बनता
कि छोड़ देंगे.....
छोड़ दिया तो कहाँ जायेंगे ?
हाँ पति की मार खाती है
पर फिर शाम को दोनों बीडी पीते हैं
रात का खाना साथ खाते हैं


स्त्री......??????????????
इस वर्ग की  भी परेशान
उस वर्ग की भी परेशान

39 comments:

  1. मन की आवाज़ सटीक सुनाई दी .. घर घर की कहानी ..

    ReplyDelete
  2. baht khoob......is varg uss varg........ek si peeda........ummdaa lekhan aur aanklan..:))))<3

    ReplyDelete
  3. बिल्कुल सही
    कहानी घर घर की..
    बधाई

    ReplyDelete
  4. रश्मिप्रभा जी...मैंने सही सुनी ...आपने सही समझी .
    ...शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  5. संगीता जी...मौन की भाषा मैंने ठीक सुनी...चलो,काम आएगा ये हुनर भी आगे ....सच,यह घर घर की कहानी है...त्रासदी ये है कि कोई भी अपनी स्थिति से संतुष्ट नहीं है.

    ReplyDelete
  6. डिम्पल....आभार!!ये पीड़ा हरेक वर्ग में है ...समस्याओं का स्वरुप कुछ कुछ बदल जाता है..बस!!

    ReplyDelete
  7. महेंद्र जी...धन्यवाद...इस घर घर की कहानी को पढ़ने एवं सराहने के लिए ..

    ReplyDelete
  8. मन की जाने वो ज्ञानी
    आपकी बात हमने मानी
    महरी की बात है सच्ची
    दोनो की है एक कहानी

    आभार

    ReplyDelete
  9. सच्ची बात कह दी……………बहुत शानदार चित्रण्।

    ReplyDelete
  10. sunilachowdhary@gmail.comJuly 9, 2011 at 6:05 PM

    NIDHI JI EK KATU SATYA.DO ROZ PAHLE HI MERI KAAMWALI NE PAGAR BADHANE KI BAAT KAHI,SUNKAR BADA GUSSA AAYA KI PICHHLE HI BARAS TO USKE KAHE BINA MAINE PAGAR PADAI THI,TAB TO N USNE KAHA THA KI AAP BAHUT ACHHI HAI MALKIN JO SABSE PAHLE AAPNE YE KAAM KIYA,PARANTU AB JAB HUMNE KUCHH AANKHE TARERI USSE PAHLE HI USKI AAGNEY NETRO KO SHIKAR HO GAI,USNE KUCHH KAHNE KO JAISE HI MUNH KHOLA HUM SAMAJH GAI PAGAR BADANE ME HI SAMAJHDARI HAI VARNA KAL HUM HI PIS RAHE HONGE ,CHULHA CHOKE KE SATH JHADOO,PONCHHA ,BARTAN KARTE HUE BAI KI KAMI KO POORA KAR RAHE HONGE.

    ReplyDelete
  11. Bahut hi kadwa sach hai aaj ke samaj ka.
    Par bahut hi sundar tareeke se varnan kiya hai aaPne...

    ReplyDelete
  12. namaste maidam....sabse pehale humare blog pe aane ke lie bahut bahut dhanybad....mere blog pe aapne puchha tha meri kabita ke bare me ye narajgi kaisi hai...?maidam narajgi kuchh nhi bs kabhi kabhi khud se naraj ho leti hu...jo dusro se naraj hone se kahi jyda achha hai....ab aapki lekini ki bat karti hu.....'''MAN KI AAWAJ''''YAADON KE JALE''''OR BARIS ME BHIGTE HUE HUM''''BAHUT ALAG ANDAJ ME AAPNE APNE DIL KE BHABNAO KO UKERA HAI SABDON ME....lekhani me dum tabhi aate hai jab bhabnaye saccchi ho....or bhabnae jab sacchi ho to lekini me char chand apne aap lag jata hai...behad khubsurat andaj hai aapke lekini ke...saaf saaf sabdon me gehre bichar chhod jate hai aap ki kabitae...or kuchh samay tak man yehi sochta rahta hai ki ...sahi hi to likha hai aapne...bahut bahut dhanybad....

    ReplyDelete
  13. निधि .. आपने बेहद खूबसूरती से जज्बातों को जुबान दी है... यह रचना, जो आपकी आला रचनाओं में से एक है.., इस बात की गवाह है आप बेहद संवेदनशील है और निष्पक्ष है... हर कलमकार के लिए ये ईमानदारी बहुत ज़रूरी है....

    पहले समझना फिर उसे जुबां देना
    'जज्बातों' को हरदम नया जज्बा देना

    मिल कर स्याही से और भडकती है
    सोचकर जज्बात के शोलों को हवा देना

    ReplyDelete
  14. ललित जी...आपकी सुन्दर सी चार लाइनों की टिप्पणी के लिए ,धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  15. सुनीला जी...आपने भी बिलकुल सही बात कही...इन लोगों के लिए कितना भि कर लो...यह उसकी कद्र नहीं करते...जब बिना मांगे कुछ मिल जाता है तो उसको हक मानने लगते हैं और कुछ देर बाद अपने अधिकार की बात आगे रख कर फिर मांगने लगते हैं...
    कुछ अपने लोगों की भी मजबूरी है कि ...अपनी व्यस्तताएं इतनी बढ़ा ली हैं कि घर के काम के लिए वक्त नहीं है और आदत न होने कि वजह से बोझ भी ....
    कुछ समय में विदेशों की तरह ...हम लोगों को भी अपने हाथ ही सारे काम निपटाने पड़ेंगे..क्यूंकि काम करने वालों के नखरे न हम सह पाएंगे ..और ना ही उनके मांगे पैसे दे पायेंगे ?
    दूसरी ओर ये भी है कि यह लोग भी मेहनत करके कमाते हैं ...कम से कम भीख तो नहीं मांगते ...चूता घर.पीटने वाला पति...रोते बच्चे छोड़ ...हारी-बीमारी ...भूख ...सर्दी गरमी सब सहन कर हमारा काम करने आती हैं

    ReplyDelete
  16. आदित्य....चलो वादे के अनुसार तुम आ गए टिप्पणी करने...यह देख कर अच्छा लगा कि अभी भी लोग अपने वादे रखना जानते हैं

    ReplyDelete
  17. शुक्रिया...तहे दिल से,अमित!!हाँ यह मैं मानती हूँ कि मैं अधिकतर मन की आवाज़ पढ़ने की कोशिश करती हूँ..अपनी भी और दूसरे की भी...जितने मौके खुद को देती हूँ उससे कुछ ज्यादा दूसरे को देती हूँ...इसलिए ,मुझे बहुत कम लोग खराब या गलत लगते हैं ...
    आपके शेर ...बहुत जानदार हैं ...!!

    ReplyDelete
  18. आरती...नमस्ते....मुझे निधि कहो...अच्छा लगेगा .अरे,तुम्हारे ब्लॉग को देखा...रचनाएँ पढ़ी ...अच्छा लगा .
    वाकई....अपने से नाराज़ होना दूसरों से नाराज़ होने से कहीं बेहतर है ...
    आरती,तुम्हें मेरा लिखा अच्छा ,सीधा सच्चा पर गहरा लगा...जान कर मुझे भी अच्छा लगा ...क्यूंकि तुम जैसा खुद लिखने वाला ..अगर यह कहे कि मैंने जो लिखा वो तुम भी सोचती हो ...तो मेरे लिए बड़ी बात है.....तुम्हारा शुक्रिया .......कि तुम ब्लॉग पर आयीं....

    ReplyDelete
  19. बहुत खूबसूरती से अहसास को सजोया है..बधाई.
    _______________
    शब्द-शिखर / विश्व जनसंख्या दिवस : बेटियों की टूटती 'आस्था'

    ReplyDelete
  20. Bade karib se apne ek aurat ki byatha ko rakha hi.
    waise meer hisab se us kam wali ka dard jyada hi.

    Sunder prastuti.

    ReplyDelete
  21. Waqt mile to hamare yaha bhi aye...hame badhe aur hamare liye bhi kux kahe.

    Thanx

    ReplyDelete
  22. आकांक्षा ....बधाई स्वीकारती हूँ...आपको अच्छा लगा...शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  23. रवि जी...शुक्रिया!!आपको प्रस्तुति पसंद आई और आपने अपने विचार रखे ...मैं अवश्य पढूंगी आपकी पोस्ट्स...जल्द ही .

    ReplyDelete
  24. आदरणीया मैम
    आज घूमते घूमते आपके ब्लॉग पर पहली बार आया और बहुत अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर.
    इस कविता की अंतिम पैरा की पंक्तियाँ बहुत प्रभावित करती है.

    -----------------
    कल 12/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  25. जीवन की कटु सत्‍य को आपने कविता में बखूबी पिरो दिया है।

    ------
    TOP HINDI BLOGS !

    ReplyDelete
  26. आदरणीय निधि जी जी
    नमस्कार !
    हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  27. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  28. सही है.. सबके अपने अपने रोने हैं।

    ReplyDelete
  29. यशवंत जी...आभार!!आपको ब्लॉग अच्छा लगा...
    आपने अपने विचारों से अवगत कराया ...अपना वक्त दिया..नयी पुरानी हलचल में स्थान दिया ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  30. ज़ाकिर जी...हाँ, सत्य को कविता में पिरोने का ही काम करती हूँ...

    ReplyDelete
  31. संजय जी...स्वागत है...आपकी शुभकामनायें स्वीकार करते हुए आपको रचना पसंद करने हेतु धन्यवाद संप्रेषित करती हूँ

    ReplyDelete
  32. राजे_शा जी..सही कहा इस दुनिया में हरेक के पास आपनी अपनी परेशानी हैं...अपने अपने दुःख हैं...

    ReplyDelete
  33. Mohammad ShahabuddinJuly 12, 2011 at 12:41 AM

    Waah Nidhi......Behad khoobsurat aur shayad har ghar aur har gharelu nari ke jazbaton ko mano tumne lekhni mein utar diya ho....Bahut khoob.....

    ReplyDelete
  34. शुक्रिया एम् एस ...आपको अच्छा लगा क्यूंकि ये कुछ अलग था उससे ...जैसा मैं अधिकतर लिखती हूँ

    ReplyDelete
  35. डॉ० निधि जी आपकी कविता और सोच दोनों सराहनीय है बधाई और शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  36. जयकृष्ण जी...बहुत-बहुत आभार,आपका ....रचना को पसंद करने हेतु

    ReplyDelete
  37. लाजवाब प्रस्तुति...दोनों की सोच में सच्चाई है...बहुत कमाल की पकड़ है आपकी विषय पर...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  38. नीरज जी...बधाई स्वीकारती हूँ ...आपको दोनों के चित्रण में सच्चाई लगी ...धन्यवाद !!

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers