Monday, December 24, 2012

मन के प्लेटफॉर्म पर




ऐसा कभी नहीं हो सकता
कि मन के प्लेटफॉर्म पर
तुम्हारी यादों से भरी
धीरे धीरे चलने वाली
मालगाड़ी न आये .


यह गाडी...
मेरे मन के एक कोने से
दूजे कोने तक
सब दर्द पहुंचाती है
मुस्कानें समेटती है
अश्क बटोरती है
पुरानी बातों को ढोती है
नयी यादों को चढाती है
सब कुछ सहेजती है ....

तुम खुद क्यूँ नहीं आ जाते कभी
यह गाडी लेकर ..
मेरे वजूद के स्टेशन के ...इस मन नाम के प्लेटफॉर्म पर

19 comments:

  1. मेरे वजूद के स्टेशन के...इस मन नाम के प्लेटफॉर्म पर,,,
    वाह बहुत खूब सुंदर प्रस्तुति,,,,

    recent post : समाधान समस्याओं का,

    ReplyDelete
  2. तुम खुद क्यूँ नहीं आ जाते कभी
    यह गाडी लेकर ..
    मेरे वजूद के स्टेशन के ...इस मन नाम के प्लेटफॉर्म पर ...
    बहुत सुन्दर भाव...शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. वो खुद आ जाएँ तो यादें कहाँ रहेंगी ... वो तो गायब हो जायंगी फिर उनकी जरूरत कहाँ रहेगी ...
    भीनी सी खुशबू लिए ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आ जायेंगे तो नयी यादें जन्म लेंगी :)

      Delete
  4. मालगाड़ी में यादों का माल ही आ सकता है न ... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  5. ओह …………मोहब्बत इम्तिहान लेती है

    ReplyDelete
    Replies
    1. आशिकों की जान लेती है

      Delete
  6. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हार्दिक धन्यवाद!!

      Delete
  7. तहे दिल से शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  8. kya khoob kaha hai ...wahhh
    तुम खुद क्यूँ नहीं आ जाते कभी..
    shandar rachna ke liye badhai...
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    ReplyDelete


  9. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥नव वर्ष मंगबलमय हो !♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥





    ऐसा कभी नहीं हो सकता
    कि मन के प्लेटफॉर्म पर
    तुम्हारी यादों से भरी
    धीरे धीरे चलने वाली
    मालगाड़ी न आये

    यह गाडी...
    मेरे मन के एक कोने से
    दूजे कोने तक
    सब दर्द पहुंचाती है
    मुस्कानें समेटती है
    अश्क बटोरती है
    पुरानी बातों को ढोती है
    नयी यादों को चढाती है
    सब कुछ सहेजती है ....


    अछूते बिंबों के साथ बेहतरीन कविता लिखी है
    वाह वाऽह ! क्या बात है आदरणीया निधि टंडन जी !


    आपकी लेखनी से ऐसे ही सुंदर , श्रेष्ठ सृजन होता रहे …

    नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    ReplyDelete
  10. रेल्वे स्टेशन और रेलगाड़ी पर यादों और रिश्तों का गजब का चित्र खींचा है....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।।।

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers