Saturday, December 1, 2012

पुराने प्रेम पत्र



पुराने प्रेम पत्र......
सारा बीता वक्त
ला कर के खड़ा कर देते हैं
आँखों के सामने
टाइम मशीन के जैसे.

डर लगता है कि
कहीं उन्हें खोलते ही
दिल में छिपा हुआ.... सब
सबके आगे ...आ गया तब .

सुना नहीं होगा न
कि किसी के बीच में होने से
कोई हो जाता है करीब.
है तो है अजीब
पर...सच यही है.

कुछ शब्द .....
जो हमने लिखे
हमने जिए
साथ साथ होने के
एक दूसरे को साक्षी मान
वो छिपाते रहे सबसे
जबकि
साथ होने के वो शब्द
जो औरों ने लिखे
वो मन्त्र हो गए .

मंत्रोच्चार ,अग्नि ,देवता
हमारे बीच होते
तो हम होते करीब
क्यूंकि
इनकी मौजूदगी के बिन
हम साथ नहीं हो सकते ,कभी .

7 comments:

  1. ये मेरा प्रेम पत्र पढ़ कर....

    ReplyDelete
  2. पहली बार आना हुआ आपके ब्लॉग पर ,देखकर अच्छा लगा बढियां रचनाएं पढने को मिलेंगी |बहुत ही भावपूर्ण है प्रेम पत्र,सुंदर |

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्वागत है...उम्मीद है कि आगे भी आपको निराशा नहीं होगी

      Delete
  3. सच है ... समय को न सिर्फ रोकते हैं ... बल्कि सामने ला खड़ा करते हैं प्रेम पत्र ...
    सुन्दर रचना है ... मन में उतरती हुई ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया!!

      Delete
  4. सुपर हिट हिँदी ब्लाँग आपका हैँ ।

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers