Wednesday, July 11, 2012

कमबख्त प्यार




वो जो एक अजीब सी बेचैनी है न
इस कमबख्त प्यार में
जो न कायदे से जीने देती है न मरने....
वही शायद रास आती है,मुझे
लगता है कुछ अटक सा गया है हलक में
जो यह निकला तो जान लेकर निकलेगा .
इसी जीने मरने के बीच की कवायद में
मेरा इश्क से इश्क गहराता जाता है
गले में कोई फंदा सा है
जो कसता चला जाता है .

मज़े की बात यह है
कि जब ऐसा नहीं होता
तो कुछ भी अच्छा नहीं लगता.

24 comments:

  1. इश्क है ही ऐसी बला.............
    सुन्दर रचना निधि जी.

    अनु

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत भी है ,बहुत.

    ReplyDelete
  3. ओह ऐसा भी होता है ? बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी संगीता जी ...ऐसा भी होता है .शुक्रिया,पसंद करने के लिए .

      Delete
  4. वाह ... क्‍या बात कही है

    ReplyDelete
  5. सही कहा - कमबख्त प्यार

    ReplyDelete
    Replies
    1. होता है न...कमबख्त .

      Delete
  6. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 12 -07-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... रात बरसता रहा चाँद बूंद बूंद .

    ReplyDelete
  7. गहन भाव लिए ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ...आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद!!

      Delete
  8. न निगलते बने
    न उगलते बने..
    ऐसा ही है प्यार...
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी....ऐसा ही है प्यार ..है न ?

      Delete
  9. प्रेम की टीस...
    प्रेम की पीड़ा,चुभन ऐसी ही होती है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहमति हेतु शुक्रिया!!

      Delete
  10. Replies
    1. पसंद करने के लिए,शुक्रिया

      Delete
  11. main to hamesha ye hi kehti hu nidhi ji ki aap jo likhti hain mere man ki awaaz lagti hai..har baar aap mjhe achambhit karti hain ki waakai kya itna match koi ho sakta hai..

    ReplyDelete
    Replies
    1. श्रेया ..पता है ,मुझे वाकई बहुत अच्छा लगता है.. जब कोई यह कहता है कि मैंने उसकी बात लिख दी .मुझे महसूस होता है कि मेरा लिखा उसके ह्रदय तक उतरा और उसे छू गया .

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers