Monday, July 9, 2012

डिम्पल



जो डिम्पल है न ..
उसके गालों में...
उसके हँसते ही
वो भी खिल-खिल जाते हैं .
जब वो हंसता है
तो बहुत खूबसूरत लगता है
मेरा बहुत बार मन करता है
कि उन भंवर में फंस जाऊं
गड्ढों में डूब जाऊं
और खुशी खुशी
खुदकुशी कर लूँ .
अगर ,वो यूँ ही सदा
मुस्कुराने का वादा कर ले .

20 comments:

  1. डिम्पल पर मर मिटे ????

    प्यारे भाव
    अनु

    ReplyDelete
  2. बहुत प्यारी डिम्पल

    ReplyDelete
    Replies
    1. डिम्पल वाली मुस्कान:-))

      Delete
  3. तुम अगर मुस्कुराने का वादा करो... सुन्दर सा डिम्पल...

    ReplyDelete
  4. गर साथ देने वादा करो,जिंदगी भर यू मुस्कराता रहूँ ,,,

    लाजबाब प्रस्तुति,,,,,

    RECENT POST...: दोहे,,,,

    ReplyDelete
  5. हाय||| तेरे डिम्पल पे वारी जाऊ ....
    बहुत सुन्दर .बहुत प्यारी
    मनभावन रचना...
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको अच्छा लगा ..जान कर मुझे अच्छा लगा

      Delete
  6. डिम्पल डिम्पल डिम्पल
    वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    ReplyDelete
  7. किसी की मुस्कुराहट के लिए,किसी की खुशी के लिए स्वयं को कुर्बान कर देना ही प्यार है...उसके मुस्कुराने से डिम्पल का सुंदर लगना और उसमें भंवर की अनुभूति करके डूबने का मन होना...प्रेम का सुंदर उदाहरण है। मैं वाह!!!वाह!!! नहीं कहूंगा...बल्कि कहूंगा डूबो...डूबो...देखो वह हँस रहा है...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके द्वारा की गयी ...मेरे डूबने की दुआ...कुबूल हो .

      Delete
  8. क्या बात है ... बहुत खूब ... अगर कोई डूब जाने का वादा करे तो वो हमेशा हँसने का वादा क्यों न करें ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हाँ...यही तो प्यार है.

      Delete
  9. बहुत खूब...

    गुदगुदी करते एहसास।

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers