Tuesday, January 25, 2011

साझा

साझा
तुम्हारे पास , 
मेरे लिए वक़्त . ......
कभी नहीं रहा
न पहले कभी ,न आज
और कल भी शायद ही हो .
तुम्हारी ज़िन्दगी में ,
मेरा -तुम्हारा साझा कुछ नहीं रहा
समय तक नहीं .................
काश ,
तुम मुझे अपना कुछ वक़्त  देते
तो अलगाव का ये दर्द
हम यूँ न भोग रहे होते................



7 comments:

  1. कल 07/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. एक सम्पूर्ण पोस्ट और रचना!
    यही विशे्षता तो आपकी अलग से पहचान बनाती है!

    ReplyDelete
  3. संजय जी...आपकी नवाजिश है .

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  5. शुक्रिया.......सदा !!

    ReplyDelete
  6. कर ही लेना चाहिए साझा सब कुछ..!!

    सुंदर..!!

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers