Tuesday, January 25, 2011

मौन

मौन :
हाँ,मौन भी बोलता है.......
अक्सर,
जब हम; मैं और तुम
अकेले होते हैं -
तब,मैंने सुना है
कई बार
कि खामोशियाँ मुखरित होती हैं............
हमारे... हाथों के स्पर्शों में,
आँखों के इशारों में ....
और ये सन्नाटा भी कभी-कभी
अभिव्यक्ति दे देता है
अंतर्मन की व्यथा को.
शब्दों की ज़रुरत नहीं होती
जब तुम पास होते हो
क्यूंकि ,
भावनाओं का साथ पाकर
चुप्पी भी बोलती है
सारे राज़ खोलती है.


२७ अगस्त १९९६

10 comments:

  1. मौन कि भाषा ...अच्छी लगी

    ReplyDelete
  2. संगीता जी...मेरी मौन की भाषा आप तक पहुँच ही गयी...धन्यवाद !!पुरानी पोस्ट पे नज़र डालने के लिए .

    ReplyDelete
  3. मौन ही तो भावना की भाषा है.सुंदर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  4. बेहद खूबसूरत,प्रभावी और मौन को शब्द देती आपकी यह रचना बहुत अच्छी लगी.


    सादर

    ReplyDelete
  5. सपना जी ...मौन की भाषा अत्यंत सशक्त होती है...अधिकतर!!
    पसंद करने के लिए थैंक्स ..

    ReplyDelete
  6. यशवंत जी...रचना को पढ़ने,पसंद करने और टिपण्णी करने के लिए शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  7. मौन....कभी-कभी बड़ी सशक्त भाषा....

    ReplyDelete
  8. मौन से सुन्दर और क्या..!!

    सुंदर..!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हमेशा सुन्दर नहीं होता....मौन.

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers