Thursday, April 25, 2013

कह देना


प्लीज़ ...यार, मेरी एक बात सुनो
तुम जो चाहें सोचो
या जो मन में आये करो
पर,मेरे पास रहो .

इतना पास...
कि जब मन करे
तो तुम्हें छू सकूँ
बांहों में भर सकूँ
जी भर के चूम सकूँ .

अच्छा ,एक बात बताओ
तुम्हें ऐसा कभी नहीं लगता ,क्या ?
कभी मन नहीं करता
कि नज़दीक रहो .
पता है ,लगता भी होगा न
तो तुम कहोगे नहीं.
यूँ भी ...जतलाना
तुम्हारी फितरत कहाँ ?

सब जानने के बाद भी
मैं कहूँगी यही
कि कह देना ..
रिश्ते की सेहत के लिए अच्छा होता है

12 comments:

  1. मुझे भी ऐसा ही लगता है, दिल से निकली बात है..

    ReplyDelete
  2. वैसे रिश्ते की सेहत के लिए सच ही थोड़ी दूरी अच्छी होती है ... बेहतरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
    Replies
    1. दूरी हो पर कम्यूनिकेशन गैप न हो

      Delete
  3. बहुत सुंदर रचना
    क्या बात

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (27 -4-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद........वन्दना ,मेरी रचना को स्थान देने हेतु.

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers