Thursday, February 21, 2013

खारापन



ज़िंदगी में से मिठास कहीं खो गयी है
हर ओर बस..तल्खियां ही तल्खियां हैं
तेरी-मेरी कुछ मजबूरियां है ...
साथ रहती केवल तनहाईयाँ हैं

गुज़रना चाहती हूँ ...महसूस करना चाहती हूँ
चखना चाहती हूँ
जीवन का हरेक स्वाद .
पर ...आजकल कोई ज़ायका
समझ में नहीं आता
खारेपन के अलावा .

क्या करूँ ???
तेरी आँख के
उस आंसू का खारापन
जाता ही नहीं ज़ुबां से

12 comments:

  1. सही कहा आपने जिंदगी की मिठास खो गई है,बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी..एक बार खो जाए यह मिठास तो मुश्किल होता है इसे ढूँढ पाना ,दोबारा

      Delete
  2. प्रेम के भाव में डूबी खूबसूरत नज़्म

    ReplyDelete
  3. "क्या करूँ ???
    तेरी आँख के
    उस आंसू का खारापन
    जाता ही नहीं ज़ुबां से "

    खारेपन से जुबां छिल जाये तो कोई स्वाद नहीं मिलता....!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा,पूनम.जुबां छिली हो तो कोई स्वाद नहीं आता

      Delete
  4. बहुत सुन्दर और मर्मिक.

    ना रिश्तों की महक दिखती ना बातोँ में ही दम दीखता
    क्यों मायूसी ही मायूसी जिधर देखो नज़र आये

    ReplyDelete
  5. पता नही क्यूँ जिन्दगी की सारी मिठास जाने कहाँ गुम सी गई है,,,,

    Recent post: गरीबी रेखा की खोज

    ReplyDelete
  6. प्रेम की चासनी जब आएगी ... खारापन दूर हो जायगा ...
    प्रेम के एहसास को जीने की आदत में डालना ही ठीक होता है ...

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers