Friday, May 27, 2011

अनजाना सा डर ....

कितने करीब थे ....कभी ,हम..............
सालों साल....तुझसे वास्ता रहा
किसी कारण
किसी मोड पे फिर बिछडना पड़ा
आज ...........
ज़िंदगी एक ऐसी जगह ले आई है
जहां............
मैं हूँ
तू है
और तन्हाई है ....
मुझे यूँ तुमसे मिलना
सालों के बाद
बहुत अच्छा लग रहा है
साथ में,
एक अनजाना सा डर भी सता  रहा है.

तुमसे नहीं डर रही हूँ
अपने से डर लग रहा है
कि
तुम्हारी ख्वाहिशें
नज़रों से जो कह रही हैं
.... कहीं तोड़ ना दें....
..वो सारी बंदिशें..........
मैंने जो ओढी हुई हैं.तुम तो रोक लोगे खुद को
मैं जानती हूँ
पर ,मैं....
तुम्हारी एक छुअन से
बिखर ना जाऊं कहीं ......
तोड़  ना दूं सारे बंधन
जो खुद पर हैं थोपे हुए.

जो भावनाएं  कहीं दिल के किसी कोने में
डाल कर ,बंद कर ,भूल चुकी हूँ
उसकी चाभी तो तुम्हारे पास ही छोड़ आई थी ना.........
उस मोड पर जहां  बिछड़े थे हम

26 comments:

  1. आदरणीय निधि जी..
    नमस्कार !
    मन को समझाना बहुत मुश्किल है और ये खुद तो कुछ समझाता ही नहीं है...
    बहुत अर्थपूर्ण बात कही है । बढ़िया

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्छी रचना.....अंतिम पंक्तियों का कोई ज़वाब नहीं है, " क्यूँकि उसकी चाभी तो तुम्हारे पास ही छोड़ आई थी ना उस मोड़ पर जहाँ बिछड़े थेहम " .........आभार

    ReplyDelete
  3. complex heart.... very beautiful post !!!

    ReplyDelete
  4. संजय जी.............नमस्ते!आपको रचना अच्छी लगी....मेरा सौभाग्य ...आप के कमेन्ट का बेसब्री से इन्तेज़ार रहता है ........साथ रहने के लिए शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  5. ज्योति जी.......यह बात तो सही है..दिल की बातें दिल ही जाने.......!

    ReplyDelete
  6. वाह्………गज़ब्…………आप तो अपने साथ बहा ले गयीं।

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  8. Nidhi bahut hi sunder...ek aancha sa daar...ek dabi hui khwaish...phir se milne ki khushi ...ek daba hua ehasas.....ek khud ko doobo dena ka maan....purana dabi huii umaang...phir se udna ki iccha...Nidhi itni khoobsoorti se tum neh abhivyakt kiya hai ki padh kar maaza aa gaya....

    ReplyDelete
  9. Yeh Jo DARR tere PEHLU meinn haiiii.....yeh haii DARR Anjaan Mohabbat kaaa....
    basss Mujhko Apnaa kerr lo Ham-dam...DARD....PYAAR bann Jaayegaa......

    ReplyDelete
  10. निधि जी... एक और सुन्दर रचना आपकी कलम से...
    एक छोटी से तुकबंदी आपकी नज़र इस रचना पर...

    दिल से चाहा तुझे, दिल से अपना माना,
    चाहते दिन-ब-दिन बढती रहीं, दिल था बेगाना,
    जरा सी भी दूरी तुझसे, सही अब जाती नहीं,
    बिछड़ने के अनजाने डर से डरता यह दिल अनजाना...

    ReplyDelete
  11. आपका जिंदगीनामा भावों के तानो बानो का अदभुत संगम है.
    जीवन में बिछोह के दर्द के अहसास से भी गुजरना पड़ता है.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर नई पोस्ट आपका इंतजार कर रही है.
    'सरयू' स्नान का न्यौता है आपको.

    ReplyDelete
  12. वंदना जी....आभार!किसी रचना कि सार्थकता इसी में है कि वो पढ़ने वाले को बहा ले जाए.......मेरा लिखना सार्थक हो गया

    ReplyDelete
  13. संगीता जी...............लगातार साथ बने रहने के लिए........उत्साह बढाने के लिए .........शुक्रिया !

    ReplyDelete
  14. राकेशजी.......आप को रचना अच्छी लगी,धन्यवाद.आपके सरयू स्नान के निमंत्रण को मैंने स्वीकार कर लिया है....अवश्य आऊँगी .

    ReplyDelete
  15. विनय जी.......मेरी पोस्ट को पसंद कर के उसे अपने शेर से नवाजने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार .

    ReplyDelete
  16. अंकुर............बड़े दिनों बाद आपका कमेन्ट आया......ब्लॉग पर..अच्छा लगा आपका कमेन्ट पढ़कर.......यूँ ही साथ बने रहिये.....

    ReplyDelete
  17. मीनाक्षी........आपने तो क्या बढ़िया हिंदी लिखी है,आज.मैं तो इस बात से खुश हूँ कि आपकी मेहनत रंग लायी और कई कोशिशों के बाद आप ब्लॉग पर कमेन्ट करने में सफल हो ही गयीं .....आपका शुक्रिया....क्यूंकि आप आई..रचना को पढ़ा,सराहा एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दी .

    ReplyDelete
  18. ....
    खोने का डर भी साथ है पाने की खुशी में
    लौटा है कोई मेरी जिंदगी में मुद्दत के बाद

    ….
    आपकी इस रचना को एक बार फिर सलाम....
    निधि आपकी कलम ज़िंदगी के अनछुए जज्बातों को बहुत ही बेबाकी से पेश करती है....

    जिसके बयान में 'दर्द-ए-दम' है
    मेरी नज़र में वो 'अहल-ए-कलम' है
    ....

    * 'दर्द-ए-दम' = पीड़ा की तीव्रता intensity of pain, ache
    * 'अहल-ए-कलम' = लेखक, कवि, कलमकार, कलम के योग्य, कलम का व्यक्ति, writer, poet, scriber

    ReplyDelete
  19. अमित........आपका कितना भी शुक्रिया करूँ कम है क्यूँ कि आप हरेक बार जब कमेन्ट करते हैं तो अपने शेर के जादू से मेरी पोस्ट को खूबसूरत बना देते हैं .....किसी को बहुत चाहा होई.....वो बिछड़ जाए.......फिर उस मोड पे मिले जहां आप किसी और के हैं और वो किसी और का.....तब के हालातों में खुद को संभाल पाना बड़ा ही मुश्किल होता है ........इसे आपने बेबाकी कहा.....तो यूँ ही सही

    ReplyDelete
  20. Mohammad ShahabuddinMay 28, 2011 at 5:43 PM

    निधि: निहायत ही खूबसूरती से लिखा गया है... पाने के साथ साथ एक डर हमेशा रहता है, खोने का...
    प्यार है एक निशान कदमो का ....
    जो मुसाफिर के बाद रहता है ......
    भूल जाते है लोग सब लेकिन ........
    कुछ न कुछ फिर भी याद रहता है ......

    ReplyDelete
  21. संबंधों के चक्रव्यूह भी बहुत दुरूह होते हैं !........मन का अभिमन्यु अपने अबोध विश्वास के सहारे उसमें प्रवेश तो कर लेता है....पर उस से बाहर निकल पाना उसके बस में कहाँ ??? ......वो जितने पड़ाव ....जितनी परतों को पार करता है..........उतना ही उलझता जाता है !....फिर कोई मुक्ति संभव नहीं !!!......
    ये यंत्रणा नारी ह्रदय के लिये कहीं और कष्टकर होती है ......क्योंकि वो अपनी पूरी अस्मिता से !...अपनी संपूर्ण अंतरात्मा से !......अपने मन - प्राण से !......हर स्पंदन.....हर श्वांस से !......अपने अन्तरंग संबंधों को जीती है !!!.....स्नेह के ये तंतु उसकी आत्मा के अन्दर........कहीं बहुत अन्दर तक उलझे हुए हैं ........और उनके उस अभेद्य चक्रव्यूह से उसका निस्तार संभव नहीं !!!
    सालों के कड़े...निर्मम दुर्भिक्ष के बाद भी धरती के अंक में दबे हुए बीज के अन्दर जैसे कोमल प्राण छुपे रहते हैं.........और जैसे एक हलकी सी फुहार से उस बीज की संपूर्ण चेतना......जीवन की सम्पूर्ण सरसता ....अंकुरित हो कर खिल जाती है........बस वैसे ही अपने बिसराए हुए प्रणय के आधार को देख कर नारी कहाँ अपने वश में रह पाती है ???..... फिर अपने आप से डर लगता है !.........उदासीनता का वो आवरण कितना झीना है.......ये ओढने वाले से अधिक कौन जानता है !!!......वो कितना भी छुपाने का असफल प्रयास करे........ मन का विभीषण घर का भेदी हो ही जाता है !.......ये समूची देह का कम्पन.....ये अधीर , कातर नयन......ये चेहरे का उड़ता सा रंग.....सभी मुरली की धुन में उन्मादित अवश गोपियों से मुक्त रास करते हैं .........और वो विवश ...निरुपाय सी देखती ही रह जाती है !!!......हाँ ! बहुत डर लगता है बिखर जाने का .........वो जिसे इतने यत्न से सहेज कर रखा था.....वो सारा संयम.....वो सारा नियंत्रण...क्षण भर में कपूर सा उड़ जाता है .....और रह जाती है मात्र एक निसहाय सी कातरता !!!
    निधि .......तुमने अपनी इस रचना में संबंधों के उस दुष्कर पल की सारी व्यथा अनावृत कर दी....जिसे समझने में एक उम्र लग जाती है !........सच में इतनी सी आयु में भी तुमने कितने वर्ष जी लिये हैं.........अब जान पायी हूँ !!!.....

    ReplyDelete
  22. पाने के साथ खोने का डर तो हमेशा साथ ही लगा रहता है.......MS.वो शख्स जिसे कभी प्यार किया हो .परिस्थितियों की वजह से बिछड़ जाए तो उससे कभी कहीं अकेले में मुलाक़ात हो तो ये नहीं समझ आता कि दिमाग की सुनें या दिल की मानें.......थैंक्स....इतने सुंदर शेर के लिए !

    ReplyDelete
  23. अर्ची दी......आप जब भी लिखती हैं.......मन को प्रफुल्लित कर देती हैं.....कितना भावनाओं से ओत-प्रोत........कितना सुन्दर शब्द चयन एवं शब्द संयोजन ........सबसे अच्छा है आपके बिम्ब......फिर चाहें अभेद्य चक्रव्यूह की बात हो.......निर्मम दुर्भिक्ष के बीज की बात हो..........मन के विभीषण की चर्चा हो या गोपियों की ......
    आपको मेरी ये रचना पसंद आयी......मेरे लिए सौभाग्य की बात है.......जो खुद इतना अच्छा लिखता हो वो अगर कह रहा है कि अच्छा लिखा है तो .....मेरे लिए तो बड़ी बात है .
    ये मन का विभीषण वाली बात तो जैसे मेरे दिल पर अंकित सी हो गयी है हो सकता है आगे की कोई रचना आपके इस एक वाक्य को समर्पित हो...

    ReplyDelete
  24. खूबसूरती से पिरोया हुआ हर एहसास कितना कुछ कह गया..!!!!

    ReplyDelete
  25. प्रियंका ...तुमने पढ़ा...शायद तुम्हें बहुत सी अन्तर्निहित..अनकही ..बातें भी समझ आई हों..इसलिए पोस्ट खूबसूरत लगी हो

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers