Tuesday, May 3, 2011

फाउन्टेन पेन

बीस साल मेरे साथ रहा
आज कहीं खो गया ......
ढूंढ-ढूंढ कर थक गयी हूँ
मिलता ही नहीं है ....मेरा फाउंटेन पेन .
वो  समझता था मेरे हरेक इशारे को
बाँध लेता था सारे एहसासों को लफ़्ज़ों में
जानता  था मेरे हाथ के दवाब को
पहचानता था मेरी उँगलियों के पोरों को .
मेरी हर सफलता-असफलता का साथी कहाँ गया???????

आज दुकान पे जब स्याही वाला कलम माँगा
दुकानदार ने ऐसे देखा कि न जाने क्या मांग लिया मैंने
बोला,ये लीजिए जेल पेन,बालपेन
ये अच्छे रहते हैं
फ़टाफ़ट चलेंगे....
इस्तेमाल  कीजिये
फिर फेंक कर दूसरा ले लीजिए.

बिना कलम लिए घर आ गयी
अब सोचती हूँ............
आजकल सम्बन्ध भी ऐसे ही हो गए हैं न ?
इस्तेमाल करो,छोडो,फेंको,दूसरा लो
इस वन नाईट स्टैंड और लिव इन के ज़माने में 
मैं कहाँ सालों की  बात ले बैठी......
कहाँ अब बरसों का साथ?
कहाँ अब वो साथ कि बातें?
कौन  सा निकटता का एहसास  ?
कौन से अनकहे जज़्बात ?
कहाँ है वो प्यार ?????
कहाँ  वो लगाव ?????
सब छु मंतर होता जा रहा है
फाउन्टेन पेन की तरह .....
हरेक चीज़ इन्स्टेंट  मिल जाए
तो वक्त कि बर्बादी कहाँ कि अकलमंदी है ?
महफूज़ कैसे अब  रिश्ते रहेंगे ?????
गायब तो नहीं हो जायेंगे धीरे-धीरे ...








32 comments:

  1. kalam ke sahare jindagi jee li aapne..:)
    bahut khub!

    ReplyDelete
  2. ek kalam...samajhta tha jo sabkuch... akalpniy khyaal , bahut badhiyaa

    ReplyDelete
  3. कलाम कलम का कमाल का लगा.
    दिल और दिमाग कंप्यूटर में लगा है तो रिश्ते भी कम्प्यूटरीकृत ही होंगें न.
    आपकी सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    आपका मेरे ब्लॉग पर इंतजार है.
    कुछ समय निकालिएगा,प्लीज.

    ReplyDelete
  4. यूज एंड थ्रो आज की हकीकत बनता जा रहा है |faunten पेन के माध्यम से बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति |

    ReplyDelete
  5. मुकेशजी..............ये मेरे साथ एक बार हो चुका है कि मैं निब खरीदने गयी तो दुकानदार ने कहा कहाँ निब स्याही के चक्कर में हैं...ज़माने लद गए इसके.....अब जेल पेन का ज़माना है.......मुह्झे सुन कर कोफ़्त हुई थी ..आपको पढ़ कर अच्छा लगा उससे मेरे ज़ेहन में जो दूकान दार के लिए क्षण भर को कहीं कभी नाराजगी उभरी थी वो शायद कम हो जाए ....

    ReplyDelete
  6. रश्मि जी..........बहुत बहुत आभार!

    ReplyDelete
  7. राकेशजी.....आपके ब्लॉग पर जल्द ही आऊँगी .....सच रिश्ते भी मशीनी और कम्प्युटर से बेजान हो गए हैं......आजकल.

    ReplyDelete
  8. शोभना जी.......आजकल जिधर नज़र उठाईये हर चीज़ जैसे एक बार के इस्तेमाल के लिए ही होती जा रही है......उससे रिश्ता मत जोडीये ........नया लीजिए ........पुरानी चीज़ें,पुराने लोग ,पुराने मूल्य,पुरानी भावनाएं आधुनिकता कि अंधी दौड में हम खोते जा रहे हैं.आप को रचना पसंद आयी ,जान कर मुझे प्रसन्नता हुई......

    ReplyDelete
  9. mere paas shabd nahi hain is kamaal ki rachna ki tareef ke liye ..
    sheershak hi kitna accha hai....

    sach me dukh hota hai aaj ke zamane se!
    main kahan aa gaya!

    bahut jyada accha lagi mujhe !
    maaf kariyega, mere paas bhi shabdon ki kami si hai, jaise rishton me mithas ki !

    ReplyDelete
  10. वाह निधि जी वाह, लोग दुनिया में कलम से लिखा करते हैं, और आज आपने कलम (Fountain Pen) का सहारा ले, आज की इस जिन्दगी की खोखली सच्चाई बयां कर दी...

    बहुत ही सुन्दर, बधाई आपको...

    वैसे एक बात आपसे बांटना चाहता हूँ, में हूँ बहुत ही दकियानूसी सा इंसान, आज भी Fountain Pen ही इस्तेमाल किया करता हूँ...

    ReplyDelete
  11. baht khoob nidhu.........waqt ke dhaare mein yun hi beshkimati cheeze khoti jaati hain.....aur hum emotionaly aur strong hote jaate hai......"kahan hai wo pyaar??....wo apnapan........aajtak nahi dikha nidhu........exclnt piece of emotions.......love you hamesha sweety......:)))<3

    ReplyDelete
  12. कभी कभी आने वाले समय की कल्पना से सिहर उठती हूँ
    आज ये कविता बड़ी प्रासंगिक लग रही है..निधि बहुत अच्छे ढंग से तुमने ये बात उठाई [रैनी

    ReplyDelete
  13. आदित्य.........तुम तो खुद भी लिखते रहते हो कम से कम तुम तो न कहो की शब्द नहीं हैं..........खैर ,चलो मुद्दे की बात यह है कि तुम्हे मेरा लिखा पसंद आया .........इसके लिए मेरी ओर से थैंक्स !

    ReplyDelete
  14. विनयजी.............मैं भी आज तक फाउंटेन पेन से ही लिखना पसंद करती हूँ ....अपनी कलम से भी बरसों साथ रहने से एक रिश्ता बन जाता है.....आपको रचना अच्छी लगी ,शुक्रिया

    ReplyDelete
  15. रेनी......मुझे भी आगे कि कल्पना कर के डर लगता है........हम लोग कहाँ थे कहाँ आ गए हैं अब और कितना आगे जायेगे ...सब मूल्यों को ,भावनाओं को क्या यूँ ही टाक पर रख कर आगे ही बढते जायेंगे...

    ReplyDelete
  16. डिम्पल ........वाह जी वाह.........आज आपका लिखा कुछ पढ़ने को मिला कई दिन बाद ........शुक्रिया.......मेहरबानी.भावनात्मक रूप से मज़बूत होने के लिए मुझे ये खोना रास नहीं आता........मैं क्या करूँ?

    ReplyDelete
  17. निधि, आप एक बेहतरीन 'कवियित्री' ही नहीं एक उम्दा 'विचारक' व 'समालोचक' भी है... आपने 'आधुनिक कविता' को नए 'मापदंड', 'संभावानाएं', 'विषय', उपमाएं और मायने प्रदान किये है .... 'फाउनटेन पेन' के माध्यम से आपने रिश्तों में पनपती 'आतुरता' और 'व्यग्रता' को बहुत ही सटीक ढंग से उजागर किया है.. इसके लिए आपको साधुवाद .....
    .....
    .....
    बनकर रोशनाई कागज़ पर घिसता रहा
    लहू था मेरा जो कलम की नोंक से रिसता रहा

    ReplyDelete
  18. अमित...........आपके शेर मुझे लाजवाब कर देते हैं ......आपने कुछ ज्यादा ही तारीफ कर दी है ..........मैं खुद में इतनी काबलियत नहीं देखती हूँ ....तब भी आपकी प्रशंसा हेतु धन्यवाद .

    ReplyDelete
  19. chiti si bat apke prakash se jan aa gai jo logo k lie sadharan ho uspe lekhak kaise shamil ho jata hai yahi ek lekhak ki khaseyat hai,bahut sundar rachna nidhi ji

    ReplyDelete
  20. आदर्शिनी ..................आप मेरे ब्लॉग पर आई....समय निकाल कर पढ़ा,टिप्पणी दी...........रचना को पसंद किया ............इस सबके लिए थैंक्स !

    ReplyDelete
  21. Mohammad ShahabuddinMay 5, 2011 at 7:41 PM

    निधि: सच में तुमने कलम की मिसाल जो रिश्तों से दी है, वो कमाल तुम ही कर सकते हो...बेहद खूबसूरत, अद्भुत और बेमिसाल है....आज इस जल्द बाज़ी की दुनिया में इंसान के वक़्त नहीं है, इतनी तेज़ी से भाग रहे हैं सब के उनके लिए न तो रिश्तों के लिए वक़्त है और न ही उन रिश्तों को निभाने के लिए, बिलकुल उसी प्रकार जैसे अब रोशनाई डालने का भी वक़्त नहीं रह गया है.....बस मेरी यही दुआ है की इसी तरह लिखती रहो और खूब नाम कमाओ...खुश रहो हमेशा....

    ReplyDelete
  22. MS...............आपकी दुआ सर आँखों पर.....आपने ,जो बात मैं कहना चाह रही थी.......कायदे से समझी है......सच में आज कल रिश्तों और मूल्यों के ह्रास से मन दुखी हो जाता है ...........मैं वाकई एक दिन पेन कि निब लेने गयी थी तब दुकानदार की बात से कि किसके पास वक्त है इंक पेन के लिए........अब निब नहीं मिलती जेल पेन लीजिए........से मन परेशान हो गे था वही यहाँ इस रूप में आपके सामने रखा .........

    ReplyDelete
  23. रिश्तों के लिए खूबसूरत बिम्ब तलाशा है आप ने.
    बहुत ही खूब.

    ReplyDelete
  24. विशाल...........आभार कि आप ब्लॉग पर आये रचना पढ़ने के लिए और आपने अपनी प्रतिक्रया भी दी.

    ReplyDelete
  25. पेन के माध्यम से बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति |
    वाह !
    इस कविता का तो जवाब नहीं !

    ReplyDelete
  26. संजय जी...मैं शुक्रगुजार हूँ की आपने अपना अमूल्य समय मेरी रचनाओं को पढ़ने के लिए दिया .मैं कोशिश करूंगी की आगे भी अच्छालिखती रहूँ जो आप से सुधी जनों को पसंद आये

    ReplyDelete
  27. aap bahut achha likhti hai...bilkul jeevan se judi baaten.

    ReplyDelete
  28. ब्रजरानी जी.........आप लोगों का स्नेह है जो मुझे इतने अपनेपन से और इज्ज़त से नवाजते हैं .....शुक्रिया......

    ReplyDelete
  29. bahot hi badhiya....

    Nidhi ji....mai aap ka likha aksar padhati hu...

    bahot pasand aata hai...aap ko frd request bheji hai FB par....aap plz accept kar dijiye....kab se intazaar kar rahi hu....

    ReplyDelete
  30. मेरे पास रोज करीब ४-५ फ्रेंड रीकुएस्ट आती हैं..........आप अपना नाम बताईये मैं तुरंत हामी भर दूंगी..............मैं ,दरअसल उतने ही दोस्त रखना चाहती हूँ जितने मैं संभाल पाऊँ..........केवल संख्या बढाने का मुझे शौक नहीं है......आप ब्लॉग देखती रहती हैं जान कर अच्छा लगा..........पढ़ने ,टिप्पणी करने के लिए आपका शुक्रिया..........

    ReplyDelete
  31. अग्निगर्भा अमृताNovember 7, 2011 at 12:38 AM

    सब कुछ इंस्‍टैंट है निधि.... इसीलिए किसी नई चीज़ पर भरोसा नहीं होता.....।

    तुम्‍हारी ये कविता बहुत सुन्‍दर है.....।

    ReplyDelete
  32. दी....इंस्टेंट के ज़माने में .....हम लोग ही पुराने हो चले हैं ,शायद !!

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers