Tuesday, August 13, 2013

करते हैं दुआ




कितनी ही रातें गुजरी
आँखों आँखों में
तेरी आमद के सारे रस्ते धोये
आँखों की बरसातों ने.

तुम तो "आता हूँ "
कह कर भूल गए
वाकिफ भी नहीं ...
किसी की दुनिया और वक़्त रुका हुआ है
तुम्हारे इंतज़ार में .

तुम वहाँ अपने हाथ उठाओ
मैं अपनी हथेली आगे बढाती हूँ
जोड़ कर दोनों हथेलियाँ
करते हैं दुआ".....
......ऐ खुदा !
सुन ले ज़रा ....!!"

मांग लेते हैं
एक दूजे को
एक दूजे के लिए .
लकीरें मिले ना मिलें
हम दोनों मिलें
साथ साथ रहें
......हमेशा.

(प्रकाशित)










































8 comments:

  1. हम दोनों मिलें
    साथ साथ रहे हमेशा.,,,,बहुत ही सुंदर प्रस्तुति,,,,

    recent post : नववर्ष की बधाई

    ReplyDelete
  2. मांग लेते हैं
    एक दूजे को
    एक दूजे के लिए .
    लकीरें मिले ना मिलें
    हम दोनों मिलें
    साथ साथ रहे ..........हमेशा.

    ....वाह! बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  3. तुम वहाँ अपनी हथेली रखो
    मैं अपनी आगे बढाती हूँ
    जोड़ लेते हैं दोनों हथेलियाँ
    करते हैं दुआ...

    इस दुआ के सामने तो खुद भी मजबूर हो जायेगा

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers