Thursday, October 24, 2013

वक्त की रफ़्तार



बहुत शैतान है यह वक्त
याद है न
साथ ही तो था यह
जब हम मिले थे
नटखट बच्चे की तरह
भागता ही रहा
न दो पल रुका
न कुछ देर ठहरा
कितना कुछ कहना सुनना
बाक़ी रह गया

अब दूर हैं हम
मिलने की भी दूर तक
कोई सूरत नहीं
तो,वही वक्त
ठहर गया है
थम गया है
उस बुजुर्ग के
गठिये वाले पैर सा
जिससे चला नहीं जाता है.
(प्रकाशित )

16 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (25-10-2013) को " ऐसे ही रहना तुम (चर्चा -1409)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  2. सच कहा......वक्त अपनी रफ़्तार बदलता रहता है..

    सुन्दर रचना..

    अनु

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद!

      Delete
  4. Replies
    1. पसंद करने के लिए...शुक्रिया!

      Delete
  5. वक्त नटखट इतना
    काम करू तो वो भागता रहता
    इन्तेजार करू तो रुक जाता
    नई पोस्ट मैं

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers