Saturday, June 18, 2011

बारिश के कुछ चित्र

बादलों में  कौंधती बिजली
किसी बच्चे ने काली स्लेट पर
अपने नन्हे हाथों से पहली रेखा खींची है .




बादल हैं ये काले काले
या मेरी आँखों का काजल बिखरा है
इस सावन में तुझे याद करते-करते .




सारे रास्तों को पानी से बुहार दिया है
हरे भरे पेड़ -पौधों को पोंछ दिया है
तुम्हारे स्वागत में
अब तो आ जाओ ..




बारिश के इस  मौसम में
दिल की इस चौखट पर
ये  दरवाजा तेरी यादों का
नमी के कारण
अटक जाता है .




कार के विंडस्क्रीन पर पानी की बूँदें
चलता वाइपर बूंदों को पोंछते हुए
बार-बार हार जाता है
मेरे मन पर आकर जमती तुम्हारी यादों को
चलता दिमाग
पोछने की कोशिश में लगता है
पर,हार जाता है .हमेशा !!



स्याही फ़ैल गयी है ,कागज़ पर
मेरे आंसुओं के बहने से
स्याही ने बादलों को रंग दे दिया है
और आंसुओं ने बारिश को पानी
मेरे रंग में रंग गया  है ये सावन भी ....





छोटे बच्चे खुश हो रहे हैं
बारिश से बने छोटे गड्ढे में कूद कर
तुम मुस्कुराते हो तो गाल में गड्ढे पड़ते हैं
मैं खुश होती हूँ इन गड्ढों को  देखकर.



सावन की  खास अदा
कहाँ -कहाँ  छूटी,बीती,पुरानी बातें
सब बारिश से धोकर
सारे दर्द नए से करके
आपके सामने लाकर कर खड़ा कर देता है .

37 comments:

  1. आदरणीय निधि जी
    नमस्कार !
    बेहतर शब्दों के चयन
    बारिश के भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।
    ..... सुन्दर रचना! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब........बहुत सुन्दर सुन्दर पंक्तियाँ......आभार।

    ReplyDelete
  3. ख़ूबसूरत पढ़कर अपने-आप ही मुस्कान आ गई होठों पर....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ
    ..... ....एक-एक शब्द भावपूर्ण बहुत खूबसूरत लगी ये पोस्ट.......प्रशंसनीय|

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर
    .......... कोई मुझको लौटा दे बचपन का सावन.. वो कागज की कश्ती वो बारिश का पानी...

    ReplyDelete
  6. संजय जी........आपने कुछ ज्यादा ही तारीफ़ कर दी है...शुक्रिया!!पोस्ट को पढ़ने के बाद आपके चेहरे पर मुस्कान आई ये ज्यादा महत्त्वपूर्ण है...

    ReplyDelete
  7. महेंद्र जी..........आभार!सच में,सबको याद आता है वो बारिश में
    भीगना,नाव चलाना,रेनी डे का इन्तेज़ार करना,माँ के हाथ के बने पकोडे खाना ...भुट्टा खाना ...ना जाने क्या क्या याद आ जाता है !!!

    ReplyDelete
  8. बारिश के चित्रों के साथ आपके मन के दृश्य भी दिख रहे हैं ..भीगे भीगे से .. सुन्दर क्षणिकाएँ

    ReplyDelete
  9. निधि जी, बारिश के यह चित्र, सुन्दर शब्दों के साथ... यह आजकल की बारिश की लुकाछिपी के बीच एक सुखद एहसास जगा गए... बधाई...

    ReplyDelete
  10. शुक्रिया......संगीता जी

    ReplyDelete
  11. विनय जी.......तहे दिल से शुक्रिया मेरी इस कोशिश को पसंद करने और सराहने के लिए

    ReplyDelete
  12. .
    घाटा घटता गया छाई घटा के साथ
    मुनाफा मानसून का बेहद मुफीद था

    निधि ये "घटनाएं घटा की" एक अजीब रस घोलती हैं इसकी हर घूँट प्यास जगाती है ... आपके लेखन के इन नये प्रयोगों ने सचमुच सराबोर कर दिया. .... आपको भी "बरखा बहार" की ढेर सारी बधाई...

    ReplyDelete
  13. nidhiji har rachna bemisaal hai ,khoobsurat bhav darshati hai.jaise jaise padti gai sochti gai ye bahut achhi hai fir jab doosri padi to socha ye bahut achhi hai aisa karte karte saari rachnai pad dali aur har ek rachna apne aap me adbhut hai.dhanyawad

    ReplyDelete
  14. यह भीगा-भीगा मौसम,ये नमी ओढी हवाएं .....सब कितना सुहाना है...आजकल इतने बढ़िया मौसम में आप क्यूँ मुनाफे-घाटे,तराजू-पलड़े ,नापने और पैमाइश की बातों में लगे हुए हैं.
    अमित....जो मैं लिखती हूँ उससे थोडा हट कर था ये पोस्ट...आपको अच्छा लगा...शुक्रिया

    ReplyDelete
  15. सुनीला जी....बहुत आभार ,आपका.दरअसल मेरी कुछ अलग करने की कोशिश थी यह...आपको अच्छी लगी ,जान कर मुझे भी खुशी हुई क्यूंकि कुछ अलग करो और लोग उसे पसंद करें तो मनोबल बढ़ता है .

    ReplyDelete
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 21 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच-- 51 ..चर्चा मंच

    ReplyDelete
  17. bahut sunder barish per likhi hui shaandaar rachanaa .badhaai aapko.




    please visit my blog.thanks.

    ReplyDelete
  18. bahut accha likha hai.dil ko chune wala

    DEEPA

    ReplyDelete
  19. sabke man ki baate/yaade taza karti aise shabdo ki barish kar ke.

    ReplyDelete
  20. bahut khoobsoorat rachna....

    kavita padhte padht mann baarish ki bundo me bheeg sa gaya....

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  22. प्रेरणा .....रचना को पसंद करने के लिए शुक्रिया...........आप मेरे ब्लॉग पर आई...धन्यवाद

    ReplyDelete
  23. दीपा...............आभार!!

    ReplyDelete
  24. बाबुषा....तहे दिल से शुक्रिया !

    ReplyDelete
  25. अनामिका....बारिश की खूबी यही है कि हरेक को कुछ ना कुछ याद दिला जाती है...

    ReplyDelete
  26. देवेन्द्र...आप यूँ ही भीगते रहिये...

    ReplyDelete
  27. patali-the-village....आपको रचना अच्छी लगी..इसके लिए मैं आपको धन्यवाद ज्ञापित करती हूँ क्यूंकि आपने वक्त निकला पढ़ने ,टिप्पणी करने के लिए

    ReplyDelete
  28. सुन्दर है बारिश की छटा आपके ब्लॉग पर.

    ReplyDelete
  29. शिखा जी...........बारिश की छटा ने आपके मन को भी भिगोया........जान कर अच्छा लगा ........शुक्रिया,टिपण्णी करने के लिए

    ReplyDelete
  30. राजीव जी................पसंद करने के लिए धन्यवाद!

    ReplyDelete
  31. बारिश की कवितायें तो मुझे बहुत खूबसूरत लगती हैं, हमेशा से...और यहाँ तो केवल वही है :)

    ReplyDelete
  32. थैंक्स...............अभि!

    ReplyDelete
  33. विवेक .....शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  34. क्रिएटीविटी का अनुपन नमूना...अद्भुत

    ReplyDelete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers