Tuesday, February 15, 2011

स्पर्श

जाड़े की गुनगुनी धूप में
जब बैठी हुई हूँ मैं
और
तुम चुपके से आकर
अपने ठन्डे हाथों से मुझे छूकर
छिप जाते हो अक्सर
तब मुझे चिढाने के लिए किया गया
वो ठंडी -ठंडी हथेलियों का स्पर्श
मेरे अन्दर तक  गर्माहट भर जाता है
ऐसी गर्मी जो शायद दिन भर ..............
धूप में बैठे रहने पर भी नहीं मिल पाती
वाकई ,तुम्हारी छुअन का प्यार भरा एक क्षण
दिन भर बेज़ार
धूप में बैठने से ज्यादा कारगर है


6 comments:

  1. @ Nidhi....Man ki komaltam bhaawnaaon ko bhi tum kitni sahajtaa se apne shabdon mein piro laetee ho ; mein to tumhaaree issi kalaa par awaak rah jaatee hoon !!!...Kitnee adbhut baat hai naa....jeevan kaa saara taap bhi humein woh garmaahat nahin dae paataa...jo kissi ek kae sneh bharae sparsh se....uskae pass honae kee anubhootii se swatah hee mil jaataa hai !!!.....woh sparsh ....preet bharaa...sneh siktt....maano rom rom ko chchoo jaataa hai....antas mein barf see jam aayee saaree samvaednaaon ko....apnee ojj se galaa pighlaa daetaa hai !!!.....Hum jee jaatae hein.......humaarae praanon mein phir sae kopal ugtee hai.....man mein phir se vasant aataa hai.....saanson kee koyal gaatee hai.....Ab sheet kahaan ???....Ab sheet kahaan ???

    ReplyDelete
  2. @ निधि ... 'गुनगुनी धूप' वाह क्या बात है ... अद्वितीय अलंकार का प्रयोग ... इस 'गुनगुनी धूप' का स्पर्श 'गुनगुना' रहा है .... All kidos to u....

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत ख्याल..

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया!

      Delete

टिप्पणिओं के इंतज़ार में ..................

सुराग.....

मेरी राह के हमसफ़र ....

Followers